कहा जाता हैं समुद्र में आप के द्वारा फेंका प्लाटिक?

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: PDD                                                                         Views: 401

Bhopal: 02 जुलाई 2017। यह अनुमान लगाया गया है कि चार से 12 मीटर मीट्रिक टन प्लास्टिक हर साल समुद्र में अपना रास्ता बना लेता है।
यह आंकड़ा में वृद्धि की संभावना है, और 2016 की एक रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया हैं कि 2050 तक समुद्र में प्लास्टिक की मात्रा मछली की मात्रा से अधिक होगी।

एक सामान्य प्लास्टिक की बोतल को पूरी तरह से तोड़ने के लिए लगभग 450 साल लगते है। महासागर में बहुत सारा प्लास्टिक का मलबा छोटे छोटे टुकड़ों में टूट जाता हैं और समुद्री जीवन द्वारा खाया जाता है, और यह प्लास्टिक का मलबा समुद्र के तल में डूब जाता है।

लेकिन इसके बाद भी बहुत बहुत सारा प्लास्टिक का मलबा बस तैरता रहता है, और बहते हुए समुद्री धाराओं के सहारे बहता रहता हैं। हम यह देख सकते हैं कि यह कहां खत्म होता है।

समुद्र विज्ञानी एरिक वैन सेबिल जो नीदरलैंड्स में इंपीरियल कॉलेज लंदन और यूट्रेक्ट विश्वविद्यालय में काम करते है ने दिखाया कि गियर के रूप में जाने वाले मजबूत सागर की धाराए दुनिया भर में छह जगह यह "कचरा पैच" का प्लास्टिक की भारी मात्रा में समाप्त होता है, और सबसे अधिक और सब से "कचरा पैच" बड़ा उत्तरी प्रशांत महासागर में जाकर समाप्त होता हैं।


News, Plastic pollution in oceans


जैसा कि ऊपर की छवि में देख सकते है की शंघाई के पास चीन के तट से पानी में एक की बोतल फेकी जाती है, जो पूर्वोत्तर प्रशांत महासागरों द्वारा पूर्व की ओर जाती है और अमेरिका के तट से कुछ सौ मील की दूरी पर जाकर रूकती है, वही यह सारा प्लास्टिक कचरा रुकता हैं।


News, Plastic pollution in oceans


भारत दुनिया के सबसे बड़े प्लास्टिक प्रदूषणों में से एक है, जो प्रतिदिन 15,000 टन से अधिक प्लास्टिक कचरा पैदा करता है। प्लास्टिक के अपशिष्ट जो मुंबई के चारों ओर पानी में प्रवेश करता है। अंततः प्लास्टिक कचरा हिंद महासागर की धाराओं में पकड़ा जाता है और मेडागास्कर के निकट तैरता हुआ पहुंचता है, या पूर्व में और बंगाल की खाड़ी में जाता है। यह स्थान प्लास्टिक प्रदूषण के लिए दुनिया में सबसे खराब जगहों में से एक मानी जाती है।

Related News

Latest Tweets

Latest News