मध्यप्रदेश के नौ जिलों में सोने व हीरे की खोज होगी....

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: प्रतिवाद                                                                         Views: 801

Bhopal: 6 जुलाई 2017। प्रदेश के नौ जिलों में भारत सरकार का नेशलन मिनरल डेवलपमेंट कारपोरेशन यानी एनएमडीसी सोना, हीरा आदि मूल्यवान खनिजों की खोज करेगी। इसके लिये मप्र सरकार ने उसे सर्वेक्षण एवं पूर्वेक्षण हेतु क्षेत्र अधिसूृचित कर दिये हैं।

जबलपुर और कटनी जिले की टोपोशीट क्रमांक 64 ए में कुल 563 वर्ग किलोमीटर में एनएमडीसी सोना, पीजीई यानी प्लेटिनम ग्रुप मिनरल, निकिल, हीरा, लेड, कॉपर, एल्युमीनियम आदि खनिज का सर्वेक्षण करेगी जबकि पन्ना जिले में ग्राम खिरवा के रकबा .50 वर्ग किलोमीटर, ग्राम खिरवा वेस्ट के 1.74 वर्गकिमी, ग्राम लक्ष्मीपुर के रकबा 2 वर्ग किमी, ग्राम करमटिया के रकबा 8 वर्ग किमी तथा जिला पन्ना ब्लाक के 55.17 वर्ग किमी में एनएमडीसी हीरे की खोज करेगी।

इसी प्रकार, छतरपुर, सागर और दमोह जिले के 193 वर्ग किमी में, टीकमगढ़ के धौर्रा ब्लाक में 3.64 वर्ग किमी में, छतरपुर व टीकमगढ़ के ब्लाक छतरपुर में 1578 वर्ग किमी में, सीधी जिले के 946 वर्ग किमी एवं एवं सिंगरौली जिले के 1433 वर्ग किमी इस प्रकार कुल 2279 वर्ग किमी तथा जिला पन्ना व छतरपुर के ब्लाक क्रमांक 2 में 800 वर्ग किमी में हीरे की एनएमडीसी खोज करेगा।

एनएमडीसी हेतु अधिसूचित क्षेत्रों में राज्य सरकार ने कतिपय शर्ते भी लगाई हैं। मसलन, उक्त स्वीकृत क्षेत्रों में खनिज की उपलब्धता प्रमाणित होती है तो एनमडीसी त्रिपक्षीय अनुबंध का पालन करेगा। एनएमडीसी को उक्त क्षेत्रों में अन्वेषण हेतु संचालक खनिकर्म मप्र से अनुमति लेना होगी तथा दो वर्षों के भीतर अपनी अन्वेषण की रिपोर्ट राज्य सरकार को देनी होगी। यदि अन्वेषण में खनिज की उपस्थिति पाई जाती है तो आगामी दो वर्षों के भीतर एनएमडीसी को पूर्वेक्षण रिपोर्ट प्रस्तुत करना होगी।

विभागीय अधिकारियों ने बताया कि एनमडीसी को सोना, हीरा आदि के सर्वेक्षण के लिये क्षेत्र अधिसूचित किये गये हैं। इनमें शहरी क्षेत्र, वन क्षेत्र, नदी, सड कें प्रतिबंधित क्षेत्र होते हैं और इनपके अलावा के क्षेत्रों में सर्वे कार्य हो सकेगा।


- डा.नवीन जोशी



Madhya Pradesh, MP News, Madhya Pradesh News



Related News

Latest Tweets