लेजर कैटरैक्ट सर्जरी से तेलंगाना के मुख्यमंत्री का सफल आपरेशन

Location: New Delhi                                                 👤Posted By: DD                                                                         Views: 17071

New Delhi: 8 सितंबर 2017। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव नेे सेंटर फॉर साइट, नई दिल्ली में कैटरैक्ट (मोतियाबिंद) की सर्जरी कराई। उनकी आंख का ऑपरेशन सेंटर फॉर साइट के चेयरमैन और मेडिकल डायरेक्टर तथा पद्यश्री सम्मान प्राप्त डॉ. महिपाल एस. सचदेव ने किया। मुख्यमंत्री का फेमटो लेजर कैटरैक्ट ऑपरेशन किया गया। यह सर्जरी ब्लेड, ब्लड, दर्द, टांका, इंजेक्शन रहित रहने और फटाफट हो जाने के कारण अब तक की सबसे अच्छी एवं सुरक्षित सर्जरी मानी जाती है।

इस सर्जरी के बारे में डॉ. महिपाल सचदेव ने बताया, यह ऑपरेशन सफल रहा और माननीय मुख्यमंत्री ऑपरेशन के बाद बेहतर महसूस कर रहे थे। वह ऑपरेशन के बाद की स्थिति की जांच कराने के लिए हमारे पास शुक्रवार को भी आए और इसके बाद हैदराबाद चले गए जहां वह अगले दिन से ही अपना कामकाज संभाल सकते हैं। यह पहला मौका नहीं था कि डॉ. सचदेव ने मुख्यमंत्री केसीआर का ऑपरेशन किया। मुख्यमंत्री आज से पांच साल पहले अपनी बाईं आंख का ऑपरेशन भी डॉ.सचदेव से करा चुके हैं। श्री राव पिछले दस वर्षों से डॉ. महिपाल सचदेव से इलाज करा रहे हैं, जब वह संसद सदस्य और कैबिनेट मंत्री थे और वह आज भी इस क्षेत्र में डॉ.सचदेव की विशेषज्ञता में यकीन करते हैं। तेलंगाना के मुख्यमंत्री और सेंटर फॉर साइट के डॉ.महिपाल सचदेव के बीच बहुत गहरा रिश्ता बन चुका है और यह मरीज-डॉक्टर के बीच रिश्ते की एक सच्ची मिसाल है।

हाल ही में टाइम्स हेल्थकेयर एचीवर्स (दिल्ली-एनसीआर 2017) में लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित हो चुके डॉ.महिपाल ने कहा, मेरे लिए और सेंटर फॉर साइट के लिए यह गर्व की बात है कि मुख्यमंत्री जैसी शख्सियत भी अपनी आंखों की देखभाल के लिए हम पर भरोसा करते हैं। सीएफएस अपने मरीजों को सर्वश्रेष्ठ सेवाएं देने के लिए हमेशा प्रयासरत रहा है और हम अपनी सर्वश्रेष्ठ क्षमता के मुताबिक उन्हें अपनी सेवाएं देते रहेंगे।

माननीय मुख्यमंत्री की सर्जरी के मौके पर कल्वाकुंता तारक रामाराव (कैबिनेट मंत्री-सूचना प्रौद्योगिकी, निगम प्रशासन और शहरी विकास, टेक्सटाइल्स एवं एनआरआई मामले), निजामाबाद के सांसद और उनकी बेटी के. कविता, मंत्री तथा भतीजे टी. हरीश राव और अन्य परिजन एवं मंत्री भी सेंटर फॉर साइट आई हॉस्पिटल में मौजूद थे जहां आधे घंटे में ही मुख्यमंत्री की सफल सर्जरी हो गई।
इस सर्जरी के बारे में डॉ.महिपाल बताते हैं, कैटरैक्ट सर्जरी पिछले कुछ वर्षों से "रेस्टोरेटिव" सर्जरी से "रेफ्रे क्टिव" सर्जरी के रूप में विकसित हुई है जिसका मकसद नजर की रोशनी बढ़ाना और मरीजों की चश्मे पर निर्भरता कम या खत्म करना है। परंपरागत फेकोमल्सिफिकेशन स्टिचलेस कैटरैक्ट सर्जरी एक मैनुअल तकनीक है जिसमें ब्लेड के जरिये कोर्निया पर कट लगाया जाता है। फेमटोसेकंड लेजर का उद्देश्य इस मैनुअल, मल्टी-स्टेप, मल्टी-टूल सर्जरी को लेजर के जरिये एक ही सर्जरी में बदलना है जिसे कंप्यूटर नियंत्रित सटीकता से अंजाम दिया जाता है। सर्जरी की प्लानिंग और सफलता के लिए इस्तेमाल होने वाली महत्वपूर्ण हाई रिजोल्यूशन आई इमेज मैपिंग और मेजरमेंट परंपरागत सर्जरी की तरह नहीं की जाती है। फेमटोसेकंड में कैटरैक्ट सर्जरी के कुछ पहलू ऑटोमेटिकली प्रोग्राम्ड हैं और इन्हें कंप्यूटर द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

Related News

Latest Tweets