हृदयरोगियों पर हुई पहली आयुर्वेदिक ट्रायल ने साबित किया पंचकर्म है बेहतर उपचार

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: DD                                                                         Views: 16651

Bhopal: भोपाल 9 सितम्बर 2017। एक रिपोर्ट के अनुसार भारत के 92 फीसदी लोग कार्डियॅक सर्जरी करवाने का खर्चा उठा नहीं सकते हैं। हृदयरोगों का खतरा आयुर्वेदिक पंचकर्म उपचारों से कम हो सकता है। पंचकर्म से हृदयरोगों उपचार 40 फीसदी अधिक परिणामकारक होता है। आयुर्वेदिक ट्रीटमेट की पहली क्लिनिकल ट्रायल में यह बात साबित हो चुकी है। आयुर्वेदिक पंचकर्म पद्वति पर आधारित शोध पत्र को वर्ल्ड कार्डियोलॉजी कान्फ्रैंस, बीजिंग, सन 2009 और एशियन प्रिवेन्टिव कार्डियोलॉजी कान्फ्रैंस, हांगकांग, सन 2011 में सराहा जा चुका है।

यह बात माधवबाग क्लिनिक्स एण्ड हॉस्पिटल्स के संस्थापक ने डॉ रोहित साने ने अपने भोपाल प्रवास के दौरान मीडिया से चर्चा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि भारत में हृदय की बीमारी का उपचार काफी महंगा है। ज्यादा लोगों के पास स्वास्थ्य बीमा भी नही होता ऐसे में हृदय रोगियांे का इलाज काफी महंगा साबित होता है। आयुर्वेदिक पंचकर्म उपचार पद्धति हृदय रोगियो के लिए उम्मीद की एक नई किरण है। आयुर्वेद के रूप में हमारा अपना आरोग्यविज्ञान हमें विरासत में मिला है।

सन 2010 में डॉ. साने और उनके सहयोगियों ने अधिकतम एरोबिक क्षमता (मैक्झिमम एरोबिक कपैसिटी) में सुधार करने के आयुर्वेदिक पंचकर्म उपचार पद्धति की खोज की। अधिकतम एरोबिक क्षमता को हृदयरोगों के कारण मृत्यू की घटना घटने (मॉर्टेलिटी) का पूर्वानुमान लगाने का सबसे बेहतर तरीका है। सन 2013 में डॉ. साने और अन्य कार्डियोलॉजिस्टों ने क्रोनिक हार्ट फैल्युअर की अवस्था में हार्ट फैल्युअर रिवर्सल थेरपी पंचकर्म उपचार की प्रभावकारिता जांचने के लिए एक रैण्डमाईज़्ड क्लिनिकल ट्रायल की। केंद्र सरकार की देखरेख में 18 सप्ताह तक चली इस ट्रायल में के परिणाम दर्शाते हैं कि, पंचकर्म उपचार अन्य उपचारो की तुलना में 40 फीसदी अधिक परिणामकारक होता है। अपने द्वारा विकसित इस अद्वितीय उपचार पद्धति पर पूर्ण विश्वास होने पर डा. रोहित ने इसे सम्पूर्ण हृदय शुद्धिकरण ऐसा नाम दिया और विभिन्न अन्तर्राष्ट्रीय मंचों पर उसे प्रस्तुत किया। इस पद्वति से पंचकर्म से उपचार करने वाले माधव बाग के देश भर में 130 क्लिनिक और 2 अस्पताल है। माधवबाग के डॉक्टर गत 10 वर्षों में 50,000 से भी अधिक कार्डियोवैस्क्युलर रोगों के (सीवीडी) रोगियों पर सफलतापूर्वक उपचार कर पाए हैं. 250 आयुर्वेदिक स्नातकों की टीम गत 11 वर्षों से क्रोनिक हार्ट डिसीज़ से कम खर्च में मुक्ति दिला रही।

Related News

Latest Tweets