आरडी मेमोरियल में आयोजित होगा प्रदेश का पहला अंतरराष्ट्रीय आयुर्वेद एवं योग सम्मेलन 'निरामय'

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: DD                                                                         Views: 16376

Bhopal: भारत सहित साइप्रस, ग्रीस, रूस तथा ब्रिटेन आदि के निजी एवं सरकारी संस्थानों के योग व आयुर्वेदाचार्य लेंगे भाग
साइकोसोमेटिक (मनोदैहिक) बीमारियों जैसे इंटरनेट व सोशल मीडिया की लत, डिप्रेशन तथा तनाव प्रबंधन सहित अनेक विषयों पर हुई नई खोजों व उपचारों पर होगी चर्चा
वक्ताओं सहित लगभग 1000 आमंत्रित अतिथियों का होगा जमावड़ा

भोपाल 16 नवंबर 2017। बरखेड़ी कलां, भदभदा रोड स्थित आरडी मेमोरियल आयुर्वेदिक कॉलेज एवं हॉस्पिटल में 17 एवं 18 नवंबर को प्रदेश का पहला अंतरराष्ट्रीय आयुर्वेद एवं योग सम्मेलन 'निरामय' आयोजित होगा। साइकोसोमेटिक (मनोदैहिक) बीमारियों पर केन्द्रित इस सम्मेलन में भारत सहित साइप्रस, ग्रीस, रूस तथा ब्रिटेन आदि के योग व आयुर्वेदाचायों के व्याख्यान होंगे तथा लगभग 500 सार पत्र पढ़े जायेंगे। प्रदेश के राजस्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता 17 नवंबर सुबह 10 बजे इस सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे। इस दौरान वे एक स्मारिका का विमोचन भी करेंगे।

उक्त आशय की जानकारी आज आयोजित एक पत्रकार वार्ता में आयोजन समिति के प्रमुख हेमंत सिंह चौहान ने दी। आयोजन समिति के अन्य सदस्यों - डॉ. प्रशांत मठ, डॉ. रचना जैन तथा डॉ. आरपी सिंह - ने भी सम्मेलन के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की।

श्री चौहान ने कहा कि सम्मेलन में जिन प्रमुख मनोदैहिक बीमारियों व उनके उपचारों पर चर्चा होगी उनमें इंटरनेट व सोशल मीडिया की लत, डिप्रेशन, तनाव, आक्रामक व्यवहार, आत्महत्या के विचार आना तथा अप्रत्याशित व्यवहार करना आदि शामिल रहेंगे। उन्होंने कहा कि भारत ही नहीं पूरे विश्व में इस तरह की समस्याएं लगातार बढ़ रही हैं, ऐसे में इन पर चर्चा करना व इनसे बचने के उपाय ढूंढना अत्यावश्यक हो गया है। तनाव को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस वर्ष का विषय बनाया है, यही वजह है कि इस सम्मेलन को मनोदैहिक बीमारियों पर केन्द्रित रखा गया है।

जिन प्रमुख योग एवं आयुर्वेदाचार्यों के व्याख्यान इस सम्मेलन में सुनने को मिलेेंगे उनमें डॉ. ओलेग सोरोकिन, मारिया थियोकारस, डॉ. प्रशांत काकोड़े, प्रोफेसर एम एस बघेल, प्रोफेसर पी के प्रजापति, डॉ. परमेश्वर अरोरा, डॉ. नितिन अग्रवाल, डॉ. विनय मिश्रा, डॉ. दिलीप नालगे, डॉ. नरेन्द्र जैन तथा डॉ. निशी अरोरा आदि शामिल हैं।

श्री चौहान ने यह भी बताया कि सम्मेलन में प्रस्तुत 3 श्रेष्ठ सार पत्रों को समापन समारोह के दौरान पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किये जायेंगे। इसी प्रकार सम्मेलन के दूसरे दिन अपनी तरह के अनूठे आयुर्वेद फूड फेस्ट का आयोजन किया जायेगा जिसमें प्रतियोगी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों और औषधियों से स्वास्थ्यवर्द्धक डिशेज तैयार करेंगे। इनमें से दो श्रेष्ठ डिशेज को भी पुरस्कृत किया जायेगा। सम्मेलन का एक अन्य आकर्षण पोस्टर प्रजेंटेशन होगा जिसमें 40 विद्यार्थियों के पोस्टर प्लाज्मा टेलीविजन के जरिये प्रदर्शित किये जायंेगे।

Related News

Latest Tweets