108 कुंडीय श्रद्धा संवर्धन गायत्री महायज्ञ वेदमंत्रों के साथ 33 कोटि देव शक्तियो का पूजन हुआ

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: Admin                                                                         Views: 1612

Bhopal: 17 दिसंबर 2017। अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार के मार्ग दर्शन में विशाल 108 कुंडीय श्रद्धा संवर्धन गायत्री महायज्ञ के प्रथम दिवस में प्रातः 8 से 12 बजे तक वेदमंत्रो के साथ 33 कोटि देव शक्तियों का आवाहन कर, उनका पूजन, अर्चन एवं वंदन किया गया। यज्ञ शाला में यज्ञ भगवान को आहुतियां प्रदान की।

108 कुंड पर हजारों श्रद्धालुओ ने तीन पारियों में यज्ञ किया।
यज्ञ का संचालन शांतिकुंज की टोली प्रभारी अरुन खंडाग्रे ने वेद मंत्रों को संगीत में ताल के साथ प्रस्तुत किया जो आकर्षण का केंद्र रहा।गायत्री प्रज्ञा पीठ के आर के गुप्ता जोन प्रभारी नारायण प्रसाद शर्मा समाज सेवी महेश मालवीय सहित अन्य गणमान्य उपस्तिथ थे। दोपहर में 2 बजे से बाल सभा/बाल विकास गोष्ठि का आयोजन हुआ। ज्ञात हो की भोपाल में गायत्री प्रज्ञा पीठ के द्वारा लगभग 80 से अधिक बाल संस्कार शाला संचालित है। वर्तमान में बच्चों में इंटरनेट, मोबाइल एवं टेलीविजन के एडिक्शन से छात्रों में विकृत मानसिकता पनप रही है ऐसे में भारतीय संस्कारों को आगे बढ़ाने का कार्य बाल संस्कार शाला कर रही हैं।

बाल सभा में विज्ञान एवं अध्यात्म विषय पर डॉ अशोक नेमा ने, पर्सनालिटी डेवलपमेंट पर प्रतिमा तोमर ने और लाइफ मैनेजमेंट एवं हेल्थ विषय पर डॉ योगेंद्र गिरी ने व्याख्यान दिये I सेमिनार में छात्रों द्वारा संस्कृतिक कार्यक्रम में प्रेरक गीत बाल संस्कार शाला के छात्र गौरव कछावा ने प्रस्तुत किया।

कायाकल्प एवं आखिर क्यों ?
नाटक का मंचन भी हुआ इससे नैतिक एवं राष्ट्र प्रेम की शिक्षा का संदेश दिया। छोटे-छोटे बच्चों ने योग के विभिन्न आसनों का प्रदर्शन किया। शाम में संगीत एवं प्रवचन शांतिकुंज की टोली के द्वारा किया गया।

कल 18 दिसंबर को विराट दीपयज्ञ होगा 18 दिसंबर को प्रातः 6:00 बजे से 7:00 बजे तक सामूहिक जप ध्यान एवं प्रज्ञा योग व्यायाम, 8:00 से दोपहर 12:00 बजे तक गायत्री महायज्ञ एवं संस्कार होंगे। अपराह्न, 3:00 बजे से 4:00 बजे तक प्रबुद्ध वर्ग की गोष्ठी l सायं 6:00 बजे से विराट दीपयज्ञ होगा उसमें 11 हजार दीपकों का अद्भुत दृश्य दिखाई देगा। एक साथ दीपकों की श्रृंखला से महायज्ञ स्थल प्रकाश की भांति प्रकाशित होगा। इसमें विशेष मार्गदर्शन डॉ चिन्मय पंड्या प्रति कुलपति देव संस्कृति विश्वविद्यालय हरिद्वार के द्वारा दिया जाएगा।

Related News

Latest Tweets