पंचकर्म से भोपाल में ठीक हुए हार्ट, ब्लड प्रेशर और शुगर के 200 मरीज

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: DD                                                                         Views: 279

Bhopal: डॉ साने बताएंगे आयुर्वेेद पंचकर्म से बीमारियों के छुटकारा पाने के तरीके
भोपाल 27 फरवरी 2020। भोपाल में पंचकर्म पद्वति से हार्ट, ब्लड प्रेशर और शुगर के मरीजों को अभूतपूर्व फायदा हुआ है। पिछले 3 सालों में पंचकर्म व हेल्दी लाइफस्टाइल को अपनाकर 200 से ज्यादा मरीजो ने इन बीमारियों से छुटकारा पाया है। पंचकर्म के प्रति देशभर में जागरूकता फैला रहे माधवबाग संस्थान द्वारा दिल की बीमारी से जीत के मौके पर इन लोगों के लिए विजयोत्सव का आयोजन किया जा रहा है इस कार्यक्रम के दौरान बीमारियों पर जीतने वाले लोगों को गोल्ड मेडल से सम्मानित किया जाएगा ।

पत्रकारा वार्ता को संबोधित करते हुए माधवबाग के रीजनल हेड डॉ. प्रमोद चव्हाण, मेडिकल हेड डॉ. रंजीत नारंग व रोटरी क्लब के असिस्टेेंट गर्वनर कर्नल अरविंद निगम ने बताया कि जीवन शैली में बदलाव लाकर हार्ट, शुगर और ब्लड प्रेशर जैसी बीमारी ठीक की जा सकती है। माधवबाग रोटरी क्लब्स ऑफ भोपाल के साथ मिलकर लोगों में नॉन कम्युनिकेबल डिसीसेज के प्रति जागृति फैलाने का काम कर रही है। इसी के तहत भोंपाल में विजयोत्सव कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। इस कार्यक्रम का आयोजन 29 फरवरी को सांय 4 बजे समन्वय भवन भोपाल में होगा। कार्यक्र्रम का मकसद सैकडों साल पहले की उन उपचार पद्वतियों के बारे में लोगांे को बताना करना है जिन्हे हम भुला चुके है। विदेशों में हमारी ये पद्वतियां काफी तेजी से फैल रही हैं। इस कार्यक्रम के दौरान माधवबाग के एम डी डॉ. रोहित साने उन लोगों को सम्मान करेंगे जिन्होंने पंचकर्म को अपनाकर एवं आयुवेद, पंचकर्म, आहार, व्यायाम और जीवन शैली में बदलाव लाकर बीमारी पर विजय पाई है। कार्यक्रम के दौरान वे जीवन शैली में बदलाव व आयुर्वेंद पंचकर्म से इन बीमारियों से छुटकारे पाने की अपनी रिसर्च को प्रजेंट करेंगे। इस दौरान रोटरी क्लब डिस्ट्रीक्ट गवर्नर नामिनी (डिस्ट्रीक्ट 3040) कर्नल महेंद्र मिश्रा रेडियोलॉजिस्ट डॉ विशु विजयंत व डॉ राजेश मेहरा, मप्र आयुष विभाग की रजिस्ट्रार डॉ. नीता सिंह, कॉर्डियोलाजिस्ट डॉ. सुब्रतों मंडल, सामाजिक कार्यकर्ता सुश्री पुनम सिंह व खासतौर पर मौजूद रहेंगे।

उन्होने बताया कि दिल की बीमारी के ज्यादातर मामले अनियंत्रित खानपान, पाश्चात्य जीवन शैली के कारण होते है। लेकिन यदि पंचकर्म के साथ खानपान व जीवन शैली पर नियत्रंण कर लिया जाए तो इन बीमारियों से बड़ी आसानी से बचा जा सकता है। इसी तरह ब्लड प्रेशर, शुगर आदि बीमारियों में पंचकर्म काफी महत्वपूर्ण है।

Related News

Latest Tweets