×

हैकर्स का बड़ा हमला: 1 हजार करोड़ पासवर्ड हुए लीक, ओबामा केयर का नाम इस्तेमाल किया

prativad news photo, top news photo, प्रतिवाद
Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 538

भोपाल: 8 जुलाई 2024। हैकर्स ने एक बड़े साइबर अटैक को अंजाम देते हुए 1 हजार करोड़ पासवर्ड लीक कर दिए हैं। इस हमले में उन्होंने ओबामा केयर का नाम इस्तेमाल किया है, जिससे लाखों लोगों की निजी जानकारी खतरे में पड़ गई है।

इस साइबर अटैक की शुरुआत अमेरिका में हुई थी, लेकिन इसका असर दुनिया भर में देखा जा रहा है। हैकर्स ने एक जटिल और सुव्यवस्थित तरीके से इस हमले को अंजाम दिया है, जिसमें उन्होंने कई सरकारी और निजी संस्थानों के डेटा को निशाना बनाया है।

ओबामा केयर का इस्तेमाल

हैकर्स ने अपने इस अटैक के लिए ओबामा केयर का नाम इस्तेमाल किया, जो कि अमेरिका की एक प्रमुख स्वास्थ्य सेवा योजना है। इस योजना के तहत लाखों अमेरिकी नागरिकों की निजी और स्वास्थ्य संबंधी जानकारी संरक्षित होती है। इस हमले के जरिए हैकर्स ने लोगों की संवेदनशील जानकारी जैसे कि सोशल सिक्योरिटी नंबर, बैंक डिटेल्स, और मेडिकल रिकॉर्ड्स को निशाना बनाया है।

सरकारी एजेंसियों की प्रतिक्रिया

इस बड़े साइबर हमले के बाद सरकारी एजेंसियों ने तेजी से कदम उठाए हैं। अमेरिकी साइबर सुरक्षा एजेंसी (CISA) और फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (FBI) इस मामले की जांच कर रहे हैं। सरकार ने लोगों को अपने पासवर्ड और अन्य संवेदनशील जानकारी को तुरंत बदलने की सलाह दी है।

CISA के निदेशक जॉन स्मिथ ने कहा, "यह एक गंभीर साइबर हमला है और हम इसे बहुत ही गंभीरता से ले रहे हैं। हम सभी संबंधित एजेंसियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं ताकि हमले के स्रोत का पता लगा सकें और प्रभावित लोगों की मदद कर सकें।"

प्रभावित लोगों की सुरक्षा

इस हमले से प्रभावित लोगों को अपनी सुरक्षा के लिए कुछ महत्वपूर्ण कदम उठाने चाहिए:
1. अपने सभी ऑनलाइन अकाउंट्स के पासवर्ड तुरंत बदलें।
2. किसी भी संदिग्ध ईमेल या लिंक पर क्लिक न करें।
3. अपने बैंक स्टेटमेंट्स और अन्य वित्तीय दस्तावेजों की निगरानी करें।
4. दो-फैक्टर ऑथेंटिकेशन का उपयोग करें।

यह साइबर हमला एक महत्वपूर्ण अनुस्मारक है कि हमारी डिजिटल दुनिया में सुरक्षा कितनी महत्वपूर्ण है। सरकारी और निजी संगठनों को अपनी साइबर सुरक्षा को और मजबूत करने की आवश्यकता है ताकि ऐसे हमलों से बचा जा सके। इस हमले के बाद, उम्मीद है कि लोग अपनी ऑनलाइन सुरक्षा के प्रति और अधिक जागरूक होंगे और उचित कदम उठाएंगे।

Related News

Latest News

Global News