×

अमेरिकी डिजिटल विज्ञापन मुकदमे में गूगल की जीत, लेकिन लड़ाई अभी बाकी है

prativad news photo, top news photo, प्रतिवाद
Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 560

भोपाल: 8 जून 2024। अमेरिकी तकनीकी उद्योग के लिए संभावित रूप से महत्वपूर्ण परिणामों वाले फैसले में, एक अमेरिकी न्यायाधीश ने डिजिटल विज्ञापन बाजार में कंपनी के प्रभुत्व के खिलाफ चल रहे अविश्वास-विरोधी मुकदमे के एक प्रमुख पहलू पर गूगल के पक्ष में फैसला सुनाया है।

गूगल के खिलाफ मामला:
अमेरिकी न्याय विभाग (DOJ) द्वारा कई राज्यों के साथ मिलकर दायर किए गए इस मुकदमे में, गूगल पर ऑनलाइन विज्ञापन बाजार में कई तरह के प्रतिस्पर्धा-विरोधी तरीकों के माध्यम से प्रतिस्पर्धा को दबाने का आरोप लगाया गया है। इनमे शामिल हैं:

प्रकाशकों और विज्ञापनदाताओं को पूरे "विज्ञापन स्टैक" में गूगल के विज्ञापन तकनीकी उपकरणों का उपयोग करने के लिए बाध्य करना, जिसमें ऑनलाइन विज्ञापन खरीदने और बेचने से जुड़ी विभिन्न सेवाएं शामिल हैं।
गूगल के अपने विज्ञापन विनिमय मंच को तरजीह देने के लिए विज्ञापन नीलामियों में हेराफेरी करना।
अपनी बाजार स्थिति को और मजबूत करने के लिए संभावित प्रतिस्पर्धियों का अधिग्रहण करना।
DOJ का तर्क है कि इन प्रथाओं के कारण व्यवसायों के लिए विज्ञापन लागत अधिक हो गई है और डिजिटल विज्ञापन क्षेत्र में नवाचार बाधित हुआ है।

न्यायाधीश का फैसला और उसके निहितार्थ:
हालिया फैसला मामले के एक विशिष्ट पहलू से संबंधित था - सरकार द्वारा मांगी गई मौद्रिक क्षतिपूर्ति। गूगल ने 2.3 मिलियन डॉलर का भुगतान करने पर सहमति व्यक्त की, जिससे प्रभावी रूप से मुकदमे के इस हिस्से का निपटारा हो गया। हालांकि, गूगल के कथित प्रतिस्पर्धा-विरोधी व्यवहार का अधिक महत्वपूर्ण मुद्दा अनसुलझा ही रहता है।

न्यायाधीश ने इन मुख्य मुद्दों पर गैर-ज्यूरी मुकदमे का विकल्प चुना, जो सितंबर 2024 के लिए निर्धारित है। इसका मतलब है कि एक न्यायाधीश मामले का फैसला करेगा, जो जूरी ट्रायल की तुलना में संभावित रूप से अधिक जटिल और लंबी प्रक्रिया हो सकती है।

गूगल के लिए जीत, लेकिन जांच जारी है:
हालांकि गूगल ने इस शुरुआती फैसले में संभावित रूप से भारी वित्तीय दंड से बचा लिया है, लेकिन उसके व्यापारिक तरीकों को चुनौती देने वाला व्यापक मुकदमा जारी है। मुकदमे में हारने से गूगल को अपने विज्ञापन तकनीकी कार्यों में काफी बदलाव करने के लिए बाध्य किया जा सकता है, जिससे संभावित रूप से निम्न हो सकता है:
लाزमी विभाजन: कंपनी को प्रतिस्पर्धियों के लिए एक समान मंच बनाने के लिए अपने विज्ञापन तकनीकी कारोबार के कुछ हिस्सों को बेचने की आवश्यकता हो सकती है।
विज्ञापन नीलामी प्रथाओं में बदलाव: गूगल को अन्य प्लेटफार्मों से निष्पक्ष प्रतिस्पर्धा सुनिश्चित करने के लिए अपने विज्ञापन विनिमय को संशोधित करने के लिए बाध्य किया जा सकता है।
बढ़ा हुआ नियामक निरीक्षण: यह फैसला डिजिटल विज्ञापन परिदृश्य में बड़ी तकनीकी कंपनियों की शक्ति को नियंत्रित करने वाले सख्त विनियमों का मार्ग प्रशस्त कर सकता है।

Related News

Latest News

Global News