×

मेटा आपके डेटा का उपयोग AI को प्रशिक्षित करने के लिए करता है, और यह नहीं चाहता कि आप इससे बाहर निकलें

prativad news photo, top news photo, प्रतिवाद
Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 972

भोपाल: 30 मई 2024। सोशल मीडिया दिग्गज मेटा, जिसमें फेसबुक और इंस्टाग्राम शामिल हैं, यूजर डेटा और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के विकास के लिए अपने दृष्टिकोण को लेकर आग की जद में है। डिफ़ॉल्ट रूप से, मेटा अपने एआई मॉडल को प्रशिक्षित करने के लिए यूजर डेटा का उपयोग करता है, जो चैटबॉट्स जैसे चैटजीपीटी और जेमिनी को चलाने वाले बड़े भाषा मॉडल (एलएलएम) की प्रगति के लिए महत्वपूर्ण है। हालांकि, यूजर्स को इस डेटा संग्रह से बाहर निकलने में अत्यधिक कठिनाई पैदा करने के लिए मेटा की कड़ी आलोचना की गई है।

डाटा की ताकत: एलएलएम को प्रभावी ढंग से कार्य करने के लिए भारी मात्रा में डेटा की आवश्यकता होती है। फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर यूजर गतिविधि एआई मॉडल के लिए एक समृद्ध प्रशिक्षण मैदान प्रदान करती है। इस डेटा में पोस्ट और कमेंट से लेकर विज्ञापनों और सामग्री के साथ इंटरैक्शन तक सब कुछ शामिल हो सकता है। इस विशाल संसाधन का लाभ उठाकर, मेटा को एआई तकनीक के विकास में एक महत्वपूर्ण लाभ प्राप्त होता है।

ऑप्ट-आउट: एक बाधा दौड़: हालांकि यूजर डेटा से मेटा को जो लाभ मिलता है, कंपनी उन लोगों के लिए एक ऑप्ट-आउट विकल्प प्रदान करती है जो अपनी जानकारी का योगदान नहीं करना चाहते हैं। हालांकि, यह ऑप्ट-आउट प्रक्रिया बाधाओं से ग्रस्त है। रिपोर्ट्स बताते हैं कि यूजर्स को भ्रमित करने वाले मेन्यू और फॉर्मों की एक श्रृंखला को नेविगेट करने की आवश्यकता होती है, जिन्हें अक्सर उनके निर्णय के लिए स्पष्टीकरण की आवश्यकता होती है। इसके अतिरिक्त, कुछ यूजर्स का दावा है कि मेटा द्वारा उनके ऑप्ट-आउट अनुरोधों को अस्वीकार कर दिया गया है, जिससे पारदर्शिता और यूजर नियंत्रण के बारे में और चिंताएं पैदा हो गई हैं।

गोपनीयता संबंधी चिंताएं और नैतिक प्रश्न: मेटा अपनी गोपनीयता नीति का हवाला देते हुए अपने कार्यों का बचाव करती है, जो बताती है कि यूजर डेटा कैसे एकत्र और उपयोग किया जाता है। हालांकि, आलोचकों का तर्क है कि ऑप्ट-आउट प्रक्रिया आसानी से सुलभ और उपयोगकर्ता के अनुकूल होनी चाहिए। उनका कहना है कि वर्तमान प्रणाली एक ऐसा वातावरण बनाती है जहां ऑप्ट-आउट को हतोत्साहित किया जाता है, संभावित रूप से यूजर की गोपनीयता और उनके डेटा पर स्वायत्तता का उल्लंघन होता है।

आगे का रास्ता: यह विवाद तकनीकी उद्योग में डेटा गोपनीयता के बारे में चल रही बहस को उजागर करता है। जैसे-जैसे एआई का विकास जारी है, बड़ी मात्रा में यूजर डेटा का उपयोग करने के नैतिक निहितार्थ एक प्रमुख चिंता बने रहेंगे। मेटा को अपनी वर्तमान ऑप्ट-आउट प्रक्रिया को संशोधित करने के लिए बढ़ते दबाव का सामना करना पड़ रहा है, जिससे यूजर्स के लिए यह चुनना आसान हो जाता है कि उनकी डेटा कंपनी के एआई विकास में योगदान करती है या नहीं।

Related News

Latest News

Global News