×

यूरोपीय संघ: नागरिकों पर डिजिटल निगरानी बढ़ाने की योजना?

prativad news photo, top news photo, प्रतिवाद
Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 1386

भोपाल: 6 जून 2024। ब्रुसेल्स: गोपनीय मसौदा सिफारिशों के अनुसार, यूरोपीय संघ आयोग कथित तौर पर ब्लॉक में निगरानी प्रथाओं के एक बड़े विस्तार पर विचार कर रहा है। यह विस्तार संभावित रूप से प्रत्येक यूरोपीय संघ के नागरिक को प्रभावित कर सकता है।

जर्मन समाचार वेबसाइट टी-ऑनलाइन द्वारा प्राप्त मसौदे के अनुसार, आयोग "बैकडोर" एक्सेस प्राप्त करने की योजना बना रहा है, जो मैसेजिंग ऐप से लेकर ऑनलाइन होम असिस्टेंट तक किसी भी चीज़ में डेटा तक पहुंच प्रदान करेगा। यह अधिकारियों को संचार और गतिविधियों की निगरानी करने की अनुमति देगा, भले ही वे एन्क्रिप्टेड हों।

योजना के समर्थकों का तर्क है कि यह अतिरिक्त निगरानी उपकरण आतंकवाद और गंभीर अपराधों से लड़ने में मदद करेगा। हालांकि, गोपनीयता समूहों ने इस योजना की कड़ी निंदा की है, इसे "बड़े पैमाने पर निगरानी" और "मौलिक अधिकारों का उल्लंघन" करार दिया है।

योजना अभी भी प्रारंभिक चरण में है और इसे यूरोपीय संसद और सदस्य राज्यों द्वारा अनुमोदित किए जाने की आवश्यकता है। यदि इसे लागू किया जाता है, तो यह नागरिक स्वतंत्रता और डेटा गोपनीयता पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालेगा।

यूरोपीय संघ आयोग कथित तौर पर ब्लॉक में निगरानी प्रथाओं के एक बड़े विस्तार पर विचार कर रहा है।
यह योजना संभावित रूप से प्रत्येक यूरोपीय संघ के नागरिक को प्रभावित कर सकती है।
आयोग "बैकडोर" एक्सेस प्राप्त करने की योजना बना रहा है जो डेटा तक पहुंच प्रदान करेगा, भले ही वह एन्क्रिप्टेड हो।
समर्थकों का तर्क है कि यह अतिरिक्त निगरानी उपकरण आतंकवाद और अपराध से लड़ने में मदद करेगा।
गोपनीयता समूहों ने योजना की निंदा की है, इसे "बड़े पैमाने पर निगरानी" और "मौलिक अधिकारों का उल्लंघन" करार दिया है।
यह एक जटिल और विवादास्पद मुद्दा है जिसमें महत्वपूर्ण निहितार्थ हैं। यह महत्वपूर्ण है कि सभी पहलुओं पर विचार किया जाए और सार्वजनिक बहस हो ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि किसी भी नए निगरानी कानून को नागरिक स्वतंत्रता और सुरक्षा के बीच उचित संतुलन बनाए रखा जाए।

ब्रसेल्स ने मसौदा निगरानी सिफारिशों के बारे में रिपोर्ट पर कोई टिप्पणी नहीं की है।

पिछले साल, एक डच एमईपी सोफी इन 'टी वेल्ड ने पहले ही चेतावनी दी थी कि यूरोपीय संघ की सरकारें पत्रकारों की जासूसी करने के लिए "अधिनायकवादी तरीकों" का इस्तेमाल कर रही हैं। वह उन आरोपों पर टिप्पणी कर रही थीं कि कुछ यूरोपीय संघ के देश यूरोपीय संघ-आधारित रूसी समाचार साइट के संपादक की निगरानी करने के लिए इजरायली पेगासस मैलवेयर का उपयोग कर रहे थे।

Related News

Latest News

Global News