×

मध्यप्रदेश को वन्यजीव पर्यटन के लिए 'सैंक्चुअरी एशिया अवॉर्ड' से सम्मानित किया गया

Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 555

भोपाल: 6 दिसंबर 2023। मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड को टॉफ टाइगर्स वाइल्डलाइफ टूरिज्म अवार्ड्स में "सर्वश्रेष्ठ सतत वन्यजीव पर्यटन राज्य" (द बेस्ट सस्टेनेबल वाइल्डलाइफ टूरिज्म स्टेट) के लिए सैंक्चुअरी एशिया अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है। यह अवार्ड मध्यप्रदेश को भारतीय उपमहाद्वीप में प्रकृति, पर्यटन, उद्योग, सतत प्रथाओं और रिस्पॉन्सिबल टूरिज्म में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए दिया गया है।

मध्यप्रदेश देश का टाइगर स्टेट है और यहां के राष्ट्रीय उद्यानों में दुनिया भर से पर्यटक टाइगर देखने आते हैं। प्रदेश सरकार पर्यटकों की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ पर्यावरण पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए भी प्रयासरत है। इसके लिए वन्य क्षेत्रों के आस-पास ईको-फ्रेंडली होमस्टे, अपशिष्ट प्रबंधन, पर्यटकों में जागरूकता लाने जैसे विभिन्न प्रयास किए जा रहे हैं।

समारोह में मध्यप्रदेश पर्यटन द्वारा प्रदेश के विभिन्न पर्यटन गंतव्यों और उत्पादों पर आधारित एक लघु फिल्म प्रदर्शित की गई। ऑडियो-विजुअल प्रेजेन्टेशन के माध्यम से मध्यप्रदेश के विभिन्न ऐतिहासिक, प्राकृतिक, आध्यात्मिक, लोक एवं शिल्प कला एवं वन्यजीव पर्यटन पर आधारित जानकारी साझा की गई। अतुल्य भारत के दिल 'मध्यप्रदेश' को घूमने के लिए एक आकर्षक एवं आदर्श गंतव्य के रूप में चित्रित किया गया।

पुरस्कार उप संचालक युवराज पडोले ने ग्रहण किया।

मध्यप्रदेश वन्यजीवों की दृष्टि से एक संपन्न राज्य है। 12 राष्ट्रीय उद्यानों और 24 वन्यजीव अभ्यारण्यों के साथ, विभिन्न पौधों, जानवरों और पक्षियों जैसे प्राकृतिक संसाधनों से समृद्ध है। देश में सर्वाधिक टाइगर्स मध्यप्रदेश में होने के कारण 'टाइगर स्टेट ऑफ इंडिया' होने का गौरव प्राप्त है। म.प्र. में वर्तमान में 785 टाइगर हैं। इसके साथ ही प्रदेश को ?लेपर्ड स्टेट? और ?घडियाल स्टेट? का भी गौरव प्राप्त है। कूनो राष्ट्रीय उद्यान में चीतों के आगमन से प्रदेश को चीता स्टेट के रूप में मान्यता मिली है।

मध्यप्रदेश सरकार वन्यजीव पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न प्रयास कर रही है। इन प्रयासों से प्रदेश को वन्यजीव पर्यटन के क्षेत्र में एक प्रमुख राज्य के रूप में स्थापित करने में मदद मिलेगी।

पुरस्कार की मुख्य विशेषताएं
यह अवार्ड भारतीय उपमहाद्वीप में प्रकृति, पर्यटन, उद्योग, सतत प्रथाओं और रिस्पॉन्सिबल टूरिज्म में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए दिया जाता है।
मध्यप्रदेश को इस अवार्ड से सम्मानित करने का मुख्य कारण प्रदेश की समृद्ध जैव विविधता और वन्यजीव पर्यटन के क्षेत्र में किए जा रहे प्रयास हैं।
मध्यप्रदेश देश का टाइगर स्टेट है और यहां के राष्ट्रीय उद्यानों में दुनिया भर से पर्यटक टाइगर देखने आते हैं।
प्रदेश सरकार पर्यटकों की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ पर्यावरण पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए भी प्रयासरत है।

पुरस्कार की प्राप्ति से प्रदेश को होने वाले लाभ
यह अवार्ड प्रदेश की वन्यजीव पर्यटन क्षमता को बढ़ावा देगा।
इससे प्रदेश को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिलेगी और पर्यटकों की संख्या में वृद्धि होगी।
इससे प्रदेश की अर्थव्यवस्था को भी बढ़ावा मिलेगा।

Join WhatsApp Channel

Related News

Latest News

Global News