कोरोना त्रासदी से निपटने में दुनिया ने देखा भारतीयों का साहस ? प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: DD                                                                         Views: 392

Bhopal: एक टेस्टिंग लैब से बढ़ाकर तीन हजार टेस्टिंग लैब बनायी
मेड इन इंडिया कोरोना वैक्सीन के बल पर किया कोरोना का सामना
देश में 93 करोड़ वैक्सीन डोज़ लगाए जा चुके हैं, जल्द ही होगा 100 करोड़ का आँकड़ा पार
देश के प्रत्येक जिले में स्थापित होंगे मेडिकल कॉलेज
प्रधानमंत्री श्री मोदी के मार्गदर्शन में कोरोना की सम्भावित तीसरी लहर से मुकाबले की तैयारियाँ जारी : मुख्यमंत्री श्री चौहान
प्रधानमंत्री श्री मोदी ने किया प्रधानमंत्री केयर फंड से जे.पी. अस्पताल में बने दो ऑक्सीजन प्लांट का वर्चुअल लोकार्पण
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया ऑक्सीजन प्लांट का शुभारंभ
7 अक्टूबर 2021। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि कोविड संक्रमण के रूप में आयी सौ साल की सबसे बड़ी त्रासदी का सामना भारतीयों ने जिस बहादुरी से किया उसे दुनिया ने बहुत बारीकी से देखा है। कोरोना संक्रमण आरंभ होने के समय एक टेस्टिंग लैब थी, जिसे बढ़ाकर 3 हजार लैब का नेटवर्क बनाना, देश और दुनिया को मेड इन इंडिया कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराना, व्यापक स्तर पर टीकाकरण महाअभियान का संचालन और दूर-दराज के क्षेत्रों तक वेंटीलेटर की उपलब्धता सुनिश्चित करना हमारी एकजुटता और सेवा-भाव का प्रतीक है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने एम्स ऋषिकेश से 35 राज्यों तथा केन्द्र शासित प्रदेशों में स्थापित 35 पीएसए ऑक्सीजन प्लांट्स देश को वर्चुअली लोकार्पित किए। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने भोपाल स्थित जे.पी. अस्पताल परिसर में प्रधानमंत्री केयर फंड से निर्मित दो ऑक्सीजन प्लांट का भी वर्चुअल लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने जे.पी. अस्पताल परिसर में स्थापित दोनों ऑक्सीजन प्लांट का बटन दबाकर शुभारंभ किया।

दस गुना बढ़ाया ऑक्सीजन उत्पादन

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि कोरोना संक्रमण से निपटने में देश की अधिक जनसंख्या और भौगोलिक विविधता बड़ी चुनौती थी। इस चुनौती का भारत की जनता ने मिलकर सामना किया और क्षमताएँ विकसित की। देश में कोरोना संक्रमण से पहले 900 मीट्रिक टन लिक्विड ऑक्सीजन का उत्पादन होता था,‍जिसे माँग बढ़ने पर दस गुना बढ़ाने में हम सफल रहे। यह विश्व के लिए अकल्पनीय है।

देश का हर जिला पी.एम. केयर से बने ऑक्सीजन प्लांट्स से लैस

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा‍कि ऑक्सीजन का परिवहन भी चुनौतीपूर्ण था। ऑक्सीजन का उत्पादन पूर्वी भारत में होता है, जबकि कोरोना संक्रमण के काल में उत्तर भारत और देश के पश्चिमी भागों में ऑक्सीजन की माँग तुलनात्मक रूप से अधिक थी। इस स्थिति में ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन चलाकर और वायुसेना के विमानों से खाली टैंकर ऑक्सीजन के उत्पादन केन्द्रों तक पहुँचाकर जल्द से जल्द ऑक्सीजन की आपूर्ति सभी आवश्यक स्थानों पर सुनिश्चित की गई। हम भविष्य में कोरोना से लड़ाई के लिए ऑक्सीजन नेटवर्क को तैयार करने और उसे सशक्त बनाने के लिए निरंतर कार्यरत हैं। देश में 1150 ऑक्सीजन प्लांट आरंभ हो चुके हैं। देश का हर जिला पी.एम. केयर से बने ऑक्सीजन प्लांट्स से लैस हो चुका है। देश को 4 हजार नए ऑक्सीजन प्लांट मिलने जा रहे हैं।
देश में एक लाख 30 हजार से ज्यादा टीकाकरण केन्द्र स्थापित

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि देश में 93 करोड़ कोरोना वैक्सीन डोज़ लगाए जा चुके हैं। जल्द ही हम 100 करोड़ के आँकड़े को पार कर जाएँगे। देश में एक लाख 30 हजार से ज्यादा टीकाकरण केन्द्र स्थापित किए गए हैं। हमने कोविन प्लेटफार्म से दुनिया को राह दिखाई कि शत-प्रतिशत टीकाकरण की ओर किस प्रकार अग्रसर हुआ जा सकता है।

22 एम्स स्थापित होंगे

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि देश के अस्पताल पहले से अधिक सक्षम हों, इस दिशा में निरंतर कार्य जारी है। प्रत्येक राज्य तक एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) को पहुँचाने का प्रयास हो रहा है। इस दिशा में 6-7 वर्ष पहले कुछ ही राज्यों में एम्स थे। अब हर राज्य में एम्स का लक्ष्य प्राप्त करने की ओर हम अग्रसर हैं। पिछले सात वर्षों में 170 मेडिकल कॉलेज आरंभ किए गए हैं। हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज स्थापित किया जाएगा। ई-संजीवनी ऐप से सुदूरवर्ती गाँवों में रह रहे लोगों को स्वास्थ्य सुविधा और मार्गदर्शन उपलब्ध कराया जा रहा है।

सही हक़दार तक उसका अधिकार आसानी से पहुँचे

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि 21वीं सदी का भारत जनता की अपेक्षाओं का समाधान करते हुए आगे बढ़ेगा। अब सरकार इसकी प्रतीक्षा नहीं करती कि जब व्यक्ति अपनी समस्याएँ आकर बताएंगे, तो हम उनका समाधान करेंगे। हमारी सरकार सोच के इस तरीके को बदल रही है। अब सरकार नागरिकों की समस्याओं के समाधान और उनके कल्याण के लिए स्वयं नागरिकों तक पहुँच रही है। मुफ्त राशन, किसानों के खाते में सीधे राशि भेजने जैसे जनहित के कार्यों पर विशेष फोकस रहेगा। सही हक़दार तक उसका अधिकार आसानी से पहुँचे, यह हमारी प्रतिबद्धता है।

मध्यप्रदेश की वैक्सीनेशन में रिकार्ड उपलब्धि : मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में कोरोना की संभावित तीसरी लहर के मुकाबले के लिए तैयारियाँ जारी हैं। हमारी कोशिश है कि तीसरी लहर आए ही नहीं। मध्यप्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन में रिकॉर्ड उपलब्धि दर्ज की गयी है। उन्होंने इसके लिए सभी स्वास्थ्य कर्मियों, जन-प्रतिनिधियों, समाजसेवियों, सामाजिक संगठनों और सभी व्यक्तियों, जिन्होंने टीकाकरण में कुछ न कुछ भूमिका निभाई, को बधाई देते हुए कहा कि प्रदेश के जन-भागीदारी मॉडल से कोरोना नियंत्रण में सफलता मिली है। इस मॉडल को अन्य राज्यों द्वारा भी अपनाया जा रहा है।

मध्यप्रदेश कोरोना से जीत की ओर बढ़ रहा है : कोरोना का टीका अवश्य लगवाएँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि टीकाकरण, कोविड अनुकूल व्यवहार और निरंतर टेस्ट से हम कोरोना पर नियंत्रण पाने में सफल हुए हैं। आज प्रदेश में केवल 4 केस हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मुफ्त टीकाकरण के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी को धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिन लोगों ने अभी तक टीका नहीं लगावाया है, वह कोरोना का टीका अवश्य लगवाएँ। जो लोग पहला टीका लगवा चुके हैं वे निश्चित समयावधि में दूसरा टीका भी आवश्यक रूप से लगवा लें। टीकाकरण से ही कोरोना नियंत्रण में आया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश कोरोना से जीत की तरफ आगे बढ़ रहा है, हमें लगातार लड़ते रहना है और कोरोना से जीतते रहना है।
प्रदेश में 201 ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट की स्थापना की जा रही है

प्रदेश के स्वास्थ्य आयुक्त श्री आकाश त्रिपाठी ने जानकारी दी कि प्रदेश में 201 ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट की स्थापना की जा रही है। पीएम केयर्स फंड द्वारा 88, मुख्यमंत्री राहत कोष द्वारा 13 और अन्य माध्यमों से 100 प्लांट स्थापित हो रहे हैं। पीएम केयर्स फंड के माध्यम से स्थापित किए जाने वाले 88 प्लांट्स से प्रतिदिन 113 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन होगा। प्रदेश में अब तक 161 प्लांट क्रियाशील किए जा चुके हैं, जिनसे प्रतिदिन 181.7 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन किया जा सकेगा। शासकीय चिकित्सालय में 30 हजार 291 ऑक्सीजन सिलेंडर की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है।

जे.पी. अस्पताल में लगे ऑक्सीजन प्लांट डीआरडीओ द्वारा आकल्पित

जे.पी. अस्पताल परिसर में 1000 एल.पी.एम. के दो ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट के वर्चुअल लोकार्पण अवसर पर लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर, विधायक श्रीमती कृष्णा गौर, आयुक्त जनसंपर्क डॉ. सुदाम खाडे़ सहित अन्य अधिकारी तथा गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। यह प्लांट डीआरडीओ द्वारा आकल्पित और एलएण्डटी द्वारा निर्मित है।

Related News

Latest Tweets