×

शासन-संचालन में आमजन का योगदान और सम्मान दोनों आवश्यक: मुख्यमंत्री डॉ. यादव

Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 1228

भोपाल: तेलंगाना के कोमुरवेल्ली में रेलवे स्टेशन के शिलान्यास समारोह में बतौर विशेष अतिथि शामिल हुए मुख्यमंत्री डॉ. यादव
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने भगवान मल्लिकार्जुन के दर्शन किए
तेलंगाना के नागरिकों को मिला महाकाल दर्शन का निमंत्रण

15 फरवरी 2024, मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है किशासन- संचालन में आमजन का योगदान और उनका सम्मान आवश्यक है। प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में राष्ट्र तेजी से विकास कर रहा है। भारत की शान भी विश्व में बढ़ी है। वसुधैव कुटुम्बकम का भाव भारतीय संस्कृति की विशेषता है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव आज कोमुरवेल्ली रेलवे स्टेशन के शिलान्यास समारोह में विशेष अतिथि के रूप में कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में केंद्रीय संस्कृति और पर्यटन मंत्री श्री किशन रेड्डी, जनप्रतिनिधि और आमजन उपस्थित थे। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कोमुरवेल्ली प्रवास के दौरान यहां के प्रमुख आस्था केंद्र मल्लिकार्जुन स्वामी मंदिर में दर्शन किए। मुख्यमंत्री डॉ यादव ने मंदिर में पूजा-अर्चना भी की।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि आज भगवान मल्लिकार्जुन के द्वार पर आने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कार्यक्रम के अतिथियों और स्थानीय जन को भगवान महाकाल के दर्शन के लिए उज्जैन आने का निमंत्रण भी दिया। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि रेल सुविधाओं के विकास से सशक्त भारत का निर्माण हो रहा है। भारत के रेलवे का इतिहास करीब पौने दो सौ वर्ष पुराना है। आज न सिर्फ निर्धन वर्ग बल्कि समाज के सभी वर्गों के लिए रेल साधन उपयोगी हैं। मेट्रो के साथ ही वन्देभारत ट्रेनें और अन्य विशेष रेलगाड़ियां उपयोगिता बढ़ा चुकी हैं। बढ़ती रेल सुविधाओं से व्यवसाय और रोजगार के क्षेत्र में लाभ मिल रहा है। आज प्रारंभ रेल सुविधा का यह प्रकल्प क्रियान्वित होने पर स्थानीय निवासियों के लिए लाभकारी होगा। प्रधानमंत्री श्री मोदी और रेल मंत्री श्री वैष्णव के प्रयासों से यह सुविधा मिल रही है।

प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व का डंका भारत ही नहीं विश्व में भी बज रहा
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि काल के प्रवाह में यह गर्व का विषय है कि भारत विकास के साथ अपनी संस्कृति के संरक्षण की दिशा में भी आगे बढ़ा है। सरयू तट पर अयोध्या में भगवान राम के मंदिर के लिए प्राण-प्रतिष्ठा कार्य पूर्ण होने के बाद संयुक्त अरब अमीरात की राजधानी अबूधाबी में भी मंदिर के लोकार्पण का कार्य हो गया है। आज इजराइल युद्ध हो या इसके पूर्व रूस-यूक्रेन युद्ध, सभी जगह भारत के नेतृत्व का डंका बज रहा है। कतर जैसे राष्ट्र मानते हैं कि भारत से उसकी मित्रता अमर है और वे भारतवासियों के साथ खड़े हैं। अनेक राष्ट्र आपसी संघर्ष और युद्धों के बावजूद भारतवासियों की सुरक्षा और सम्मान के लिए प्रतिबद्ध दिखाई देते हैं। प्रधानमंत्री श्री मोदी के प्रधानमंत्री पद के दो कार्यकाल के पूर्व का समय याद करें तो अनेक देश भारत का वह सम्मान नहीं करते थे जो आज करते हैं।

भगवान राम और भगवान श्रीकृष्ण से जुड़े स्थानों को बनाएंगे तीर्थ स्थल
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि मध्यप्रदेश में जिन-जिन स्थानों पर भगवान राम और भगवान श्रीकृष्ण के चरण पड़े हैं, उन्हें तीर्थ स्थल के रूप में विकसित करने का निर्णय लिया गया है। करीब पांच हजार वर्ष पहले कौरव- पांडव के बीच धर्म युद्ध हुआ। भगवान श्रीकृष्ण ने सत्य के लिए लड़ना सिखाया। गत 22 जनवरी को अयोध्या में राममंदिर के गर्भ गृह में प्राण-प्रतिष्ठा उत्तर से लेकर दक्षिण भारत तक नागरिकों की आस्था के सम्मान का प्रतीक बनी है। कार्यक्रम को केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति जी किशन रेड्डी ने भी संबोधित किया। उन्होंने मुख्यमंत्री डॉ यादव का स्वगत किया। इस कार्यक्रम में राज्यसभा सदस्य डॉ लक्ष्मण, पूर्व लोकसभा सदस्य श्री गौड़, रघुनंदन राव, अरूण जैन और अन्य जन प्रतिनिधि अतिथि के रूप में उपस्थित थे।


Madhya Pradesh, प्रतिवाद समाचार, प्रतिवाद, MP News, Madhya Pradesh News, MP Breaking, Hindi Samachar, prativad.com

Related News

Latest News

Global News