×

डिजीटल मीडिया: हैकर्स पत्रकारिता में अपना रास्ता बना रहे

prativad news photo, top news photo, प्रतिवाद
Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 5516

भोपाल: आज की डिजिटल मीडिया की दुनिया में, हैकिंग एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। हैकर सरकारी और व्यावसायिक संगठनों के लिए एक गंभीर खतरा हैं। हालांकि, हैकिंग का उपयोग सकारात्मक उद्देश्यों के लिए भी किया जा सकता है। कुछ हैकर पत्रकारिता में अपना रास्ता बना रहे हैं, और वे महत्वपूर्ण जानकारी को उजागर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

पत्रकारिता में आए कुछ हैकर्स:
मेहदी हसन, एक भारतीय मूल के ब्रितानी राजनीतिक पत्रकार, प्रसारक और लेखक। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक हैकर के रूप में की थी। उन्होंने 1990 के दशक में कई प्रसिद्ध साइटों को हैक किया, जिनमें सीएनएन और यूएसए टुडे शामिल हैं। बाद में, उन्होंने पत्रकारिता में करियर बनाने का फैसला किया।

एडवर्ड स्नोडेन, एक पूर्व अमेरिकी खुफिया एजेंट हैं जिन्होंने 2013 में राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (NSA) के गुप्त कार्यक्रमों के बारे में जानकारी लीक की थी। स्नोडेन को एक हैकर भी माना जाता है, क्योंकि उन्होंने NSA के सिस्टम को हैक करके इस जानकारी तक पहुंच प्राप्त की थी।

जर्मेन लेनियर, एक फ्रांसीसी पत्रकार हैं जिन्होंने 2015 में वेबसाइट WikiLeaks के लिए काम करना शुरू किया। लेनियर ने WikiLeaks के लिए कई महत्वपूर्ण लीक प्रकाशित किए हैं, जिनमें 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूसी हस्तक्षेप के बारे में जानकारी शामिल है।

ये हैकर अपने तकनीकी कौशल का उपयोग करके महत्वपूर्ण जानकारी को उजागर करने और जनता को जागरूक करने के लिए काम करते हैं। वे सरकारों, व्यवसायों और अन्य शक्तिशाली संस्थाओं की गैर-जिम्मेदारी और भ्रष्टाचार को उजागर करने में मदद करते हैं।

हैकिंग डिजिटल पत्रकारिता के लिए एक शक्तिशाली उपकरण है। यह पत्रकारों को उन कहानियों तक पहुंच प्रदान कर सकता है जो अन्यथा पहुंच से बाहर हो सकती हैं। यह उन्हें महत्वपूर्ण जानकारी को उजागर करने और जनता को जागरूक करने में मदद कर सकता है।

हालांकि, हैकिंग पत्रकारिता के लिए एक चुनौती भी है। हैकरों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे केवल वैध और महत्वपूर्ण जानकारी लीक करें। उन्हें यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि वे लीक किए गए डेटा की गोपनीयता का सम्मान करें।

कुल मिलाकर, हैकर पत्रकारिता में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। वे महत्वपूर्ण जानकारी को उजागर करने और जनता को जागरूक करने में मदद कर रहे हैं।

चुनौतियाँ:
वैधता: हैकरों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे केवल वैध और महत्वपूर्ण जानकारी लीक करें। यदि लीक की गई जानकारी गलत या भ्रामक है, तो यह पत्रकारिता की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा सकता है।
गोपनीयता: हैकरों को यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि वे लीक किए गए डेटा की गोपनीयता का सम्मान करें। डेटा लीक से व्यक्तियों और संगठनों को नुकसान हो सकता है।
कानूनी मुद्दे: हैकिंग अवैध है। हैकर जो पत्रकारिता के लिए लीक करते हैं, उन्हें कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है।

संभावनाएँ:
अधिक जानकारी की पहुंच: हैकिंग पत्रकारों को उन कहानियों तक पहुंच प्रदान कर सकती है जो अन्यथा पहुंच से बाहर हो सकती हैं। इससे वे महत्वपूर्ण जानकारी को उजागर कर सकते हैं जो जनता को जागरूक करने में मदद कर सकती है।
नई कहानियों का पता लगाना: हैकिंग पत्रकारों को नई कहानियों का पता लगाने में मदद कर सकती है जो अन्यथा नजरअंदाज हो सकती हैं।
शक्तिशाली संस्थाओं की जवाबदेही: हैकिंग सरकारों, व्यवसायों और अन्य शक्तिशाली संस्थाओं की जवाबदेही सुनिश्चित करने में मदद कर सकती है।

हैकिंग डिजिटल पत्रकारिता के लिए एक शक्तिशाली उपकरण साबित हो रहा है। यह पत्रकारों को महत्वपूर्ण जानकारी को उजागर करने और जनता को जागरूक करने में मदद कर सकता है। हालांकि, हैकरों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे केवल वैध और महत्वपूर्ण जानकारी लीक करें।




दीपक शर्मा
प्रतिवाद

Related News

Latest News

Global News