×

मध्य प्रदेश में तैयार होगा तबाही मचाने वाला वायुसेना का हथियार मार्क-84 बम, अमेरिका ने वियतनाम युद्ध में किया था इस्तेमाल

Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 1653

भोपाल: 27 नवंबर 2023। मध्य प्रदेश के जबलपुर में स्थित ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया भारतीय वायु सेना और नौसेना के लिए अत्याधुनिक हथियार बना रही है।

फैक्ट्री ने हाल ही में भारतीय नौसेना को उन्नत हथियार दिए हैं और अब वायु सेना के लिए दुर्जेय मार्क -84 बम का उत्पादन करने की तैयारी कर रही है। सरकार ने इस परियोजना के लिए 3,000 करोड़ रुपये का महत्वपूर्ण बजट आवंटित किया है।

मार्क -84 बम एक दुर्जेय हथियार है जो विरोधियों में भय पैदा करता है।

12 फीट लंबाई और लगभग 1,000 किलोग्राम वजन वाले इस बम की विनाशकारी शक्ति अनिवार्य है। विस्फोट होने पर, यह लगभग 30 फीट गहरे और 50 फीट चौड़े गड्ढे का निर्माण करता है, जो सबसे बड़े संरचनाओं को भी नष्ट कर सकता है।

मार्क -84 बम का एक दुर्जेय इतिहास है, जिसका उपयोग कई संघर्षों, जिसमें वियतनाम युद्ध भी शामिल है, में किया गया है।

वियतनाम युद्ध के दौरान, अमेरिकी बलों ने मार्क -84 बम का उपयोग किया, जिससे विस्फोट स्थल पर 97 लोगों की दुखद मौत हो गई। इस बम की सैन्य हथियार के रूप में प्रतिष्ठा दृढ़ता से स्थापित है।

भारतीय वायु सेना ने पारंपरिक रूप से विदेशी स्रोतों से मार्क -84 बम का आयात किया है।

इन बमों के आयात की उच्च लागत के कारण, भारतीय वायु सेना ने एक घरेलू समाधान की तलाश की। फलस्वरूप, जबलपुर में ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया को मार्क -84 बम का निर्माण करने के लिए बोली दी गई, जिसका नेतृत्व जनरल मैनेजर एमएन हालदार के देखरेख में किया गया था।

भारत में मार्क -84 बम का विकास आत्मनिर्भरता और तकनीकी प्रगति में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है।

इस बम के सफल उत्पादन से न केवल भारतीय वायु सेना का शस्त्रागार मजबूत होता है, बल्कि इस हथियार की वैश्विक मांग के कारण इसे अन्य देशों को निर्यात करने के अवसर भी खुल जाते हैं।

ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया भी भारतीय नौसेना के लिए एक उन्नत पनडुब्बी भूमिगत खनन का उत्पादन कर रही है।

इस हथियार को डेप्थ चार्जर के रूप में जाना जाता है, जो नौसेना द्वारा पहले इस्तेमाल किए गए अप्रचलित मॉडल को बदल देता है। फैक्ट्री ने सफलतापूर्वक इस उन्नत डेप्थ चार्जर का विकास किया है और इसे नौसेना को सौंप दिया है, जिससे भारतीय नौसेना की क्षमताओं में वृद्धि हुई है।

ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया भारत के रक्षा विनिर्माण में आत्मनिर्भरता की प्रतिबद्धता का एक प्रमाण है।

फैक्ट्री के समर्पण और उच्च गुणवत्ता वाले हथियार बनाने की विशेषज्ञता राष्ट्र की सुरक्षा को सुरक्षित रखने के लिए महत्वपूर्ण है।


Join WhatsApp Channel



Madhya Pradesh, News, MP Breaking, Hindi Samachar, prativad.com

Related News

Latest News

Global News