×

वजन घटाने की दवाइयां और बढ़ती मांग: बाजार का बूम लेकिन फायदे पर सवाल

prativad news photo, top news photo, प्रतिवाद
Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 482

भोपाल: 29 मई 2024। मोटापे के खिलाफ लड़ाई ने वजन घटाने वाली दवाओं की मांग को बढ़ा दिया है, और इस बाजार के दशक के अंत तक 150 बिलियन डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है। हालांकि, यह तेजी से बढ़ता बाजार एक चिंताजनक सच्चाई के साथ सामने आया है: ज्यादातर लोग इन दवाओं को महत्वपूर्ण लाभ का अनुभव करने से पहले ही छोड़ देते हैं, जिससे उनकी दीर्घकालिक प्रभावशीलता और संभावित कमियों पर सवाल उठता है।

हताशा से भरा बाजार
मोटापे की दर दुनिया भर में लगातार बढ़ रही है, जिससे कई लोग जादुई इलाज की तलाश कर रहे हैं। वजन घटाने वाली दवाएं, जिन्हें शुरुआत में मधुमेह प्रबंधन के लिए विकसित किया गया था, इस लड़ाई में एक नए हथियार के रूप में सामने आई हैं। GLP-1 एगोनिस्ट जैसी दवाएं, जो भूख और तृप्ति को प्रभावित करने वाले हार्मोन को नियंत्रित करके काम करती हैं, ने नैदानिक परीक्षणों में आशाजनक परिणाम दिखाए हैं, जिससे इनके नुस्खे बढ़ गए हैं।

मांग को पूरा करने के लिए आपूर्ति संघर्ष
इन दवाओं की मांग उपलब्ध आपूर्ति से कहीं अधिक हो गई है। 2023 में, कुछ लोकप्रिय दवाओं की देशव्यापी कमी हो गई, जिससे मरीजों को निराशा और देरी का सामना करना पड़ा। जैसा कि दवा कंपनियां इस मांग को पूरा करने के लिए उत्पादन बढ़ा रही हैं, बाजार के अपने तेजी से विकास को जारी रखने की उम्मीद है।

क्या फायदे टिकते हैं?
जबकि वजन घटाने वाली दवाएं एक संभावित समाधान प्रदान करती हैं, एक चिंताजनक रुझान सामने आया है। अध्ययन बताते हैं कि इन दवाओं को लेने वाले मरीजों का एक बड़ा हिस्सा एक साल के भीतर इन्हें लेना बंद कर देता है। इससे दवाओं की दीर्घकालिक प्रभावशीलता और पालन दरों पर सवाल उठता है। वजन कम करने के लिए अक्सर निरंतर जीवनशैली में बदलाव की आवश्यकता होती है; दवाएं एक सहायक प्रारंभिक बिंदु हो सकती हैं, लेकिन यदि आहार में बदलाव और शारीरिक गतिविधि में वृद्धि के साथ न लिया जाए तो उनका प्रभाव कम हो जाता है।

छिपी लागत और संभावित जोखिम
इन दवाओं की उच्च लागत एक और बाधा है। कई बीमा कंपनियों की कवरेज सीमाएं सख्त होती हैं, जिससे मरीजों पर भारी खर्च पड़ता है। इसके अतिरिक्त, इन दवाओं की दीर्घकालिक सुरक्षा अभी भी जांच के दायरे में है। हालांकि आमतौर पर सुरक्षित मानी जाती हैं, लेकिन संभावित दुष्प्रभावों, जिनमें जठरांत्र संबंधी समस्याएं और कुछ कैंसर का खतरा बढ़ना शामिल है, पर और अध्ययन की आवश्यकता है।

सही दृष्टिकोण खोजना
वजन घटाने वाली दवाओं का उदय मोटापे के प्रबंधन के लिए एक नया दृष्टिकोण प्रदान करता है। हालांकि, इन दवाओं को व्यापक वजन घटाने की योजना के हिस्से के रूप में देखना महत्वपूर्ण है। इन्हें स्वस्थ खान-पान, शारीरिक गतिविधि में वृद्धि और व्यवहार परिवर्तन के साथ मिलाने से अधिक टिकाऊ परिणाम मिलने की संभावना है। इसके अतिरिक्त, डॉक्टरों को इन दवाओं को निर्धारित करने से पहले व्यक्तिगत जरूरतों और संभावित जोखिमों पर सावधानीपूर्वक विचार करने की आवश्यकता है।

Related News

Latest News

Global News