×

सेमीकंडक्टर और चिप-डिजाइन क्षेत्र में विद्यार्थियों, शोधकर्ताओं और निवेशकों के लिए नए अवसर: मुख्यमंत्री डॉ. यादव

prativad news photo, top news photo, प्रतिवाद
Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 935

भोपाल:

देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर और ताइवान के विश्वविद्यालयों के बीच समझौता


मुख्यमंत्री ने टिकाऊ भविष्य के लिए पर्यावरण प्रबंधन पर अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी का उद्घाटन किया


मुख्यमंत्री ने देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर की संगोष्ठी में वर्चुअल माध्यम से भाग लिया


18 जून 2024: मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने घोषणा की कि सेमीकंडक्टर और चिप-डिजाइन के क्षेत्र में विश्वविख्यात ताइवान के साथ देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर द्वारा किए गए एमओयू से मध्यप्रदेश के विद्यार्थियों, शोधकर्ताओं और निवेशकों के लिए प्रगति के नए द्वार खुलेंगे। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय ने ताइवान के छह विभिन्न विश्वविद्यालयों के साथ यह समझौता किया है। राज्य सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि ताइवान के साथ संबंध मजबूत हों और एमओयू के क्रियान्वयन में कोई बाधा न आए। डॉ. यादव ने टिकाऊ भविष्य के लिए पर्यावरण प्रबंधन विषय पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी को भोपाल से वर्चुअली संबोधित किया। इस दौरान आई-शु यूनिवर्सिटी ताइवान और देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए और विश्वविद्यालय में स्वामी विवेकानंद और भारत रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा का अनावरण भी किया गया।

पर्यावरण की चिंता हमारी अपनी चिंता के समान होनी चाहिए: मुख्यमंत्री डॉ. यादव

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि टिकाऊ भविष्य के लिए पर्यावरण प्रबंधन विषय पर अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन वर्तमान समय में बेहद महत्वपूर्ण है। हमारी संस्कृति हमें पर्यावरण के साथ सामंजस्य स्थापित करने की प्रेरणा देती है। वेद हमें सिखाते हैं कि जैसे हम अपनी चिंता करते हैं, वैसे ही हमें ब्रह्मांड की भी चिंता करनी चाहिए। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर नवाचार में अग्रणी है और इसके लिए विश्वविद्यालय को बधाई दी जानी चाहिए। पर्यावरण की दृष्टि से मध्य प्रदेश समृद्ध है। केंद्र और राज्य सरकारें पर्यावरणीय चुनौतियों का सामना करने के लिए हर स्तर पर प्रयास कर रही हैं। भारतीय संस्कृति में पर्यावरण संरक्षण और इसके प्रति जनजागरूकता का विशेष महत्व है।

इंदौर में लगाए जाएंगे 51 लाख पौधे

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने बताया कि राज्य सरकार ने पर्यावरण संरक्षण के तहत 5.5 करोड़ पौधे लगाने का संकल्प लिया है, जिसमें से 51 लाख पौधे इंदौर में लगाए जाएंगे। जल स्रोतों के संरक्षण के लिए चलाए गए पखवाड़े के अभियान में प्रदेशवासियों की सक्रिय सहभागिता सराहनीय रही। इंदौर में आयोजित कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. इंदर सिंह परमार, इंदौर सांसद श्री शंकर लालवानी, देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ. रेणु जैन, आई-शु यूनिवर्सिटी ताइवान के अध्यक्ष डॉ. कुआंग और अन्य अधिकारी व विशेषज्ञ उपस्थित थे।

Related News

Latest News

Global News