×

सिकल सेल एनीमिया पर रिसर्च को बढ़ावा देने का आह्वान, डिंडोरी में औषधीय वनस्पतियों का हर्बल पार्क बनेगा: उप राष्ट्रपति डॉ. धनखड़

prativad news photo, top news photo, प्रतिवाद
Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 481

भोपाल: 19 जून 2024। उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने डिंडोरी में औषधीय वनस्पतियों की विशिष्टता को देखते हुए उप राष्ट्रपति भवन में हर्बल पार्क की स्थापना की घोषणा की। उन्होंने कहा कि सिकल सेल एनीमिया समेत अन्य बीमारियों के उपचार के लिए डिंडोरी में रिसर्च कार्य को तेजी से बढ़ाया जाना चाहिए, जिससे यह क्षेत्र राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त कर सके।

सिकल सेल एनीमिया की रोकथाम और जागरूकता के लिए सभी स्तरों पर समन्वित प्रयासों की आवश्यकता पर बल देते हुए उप राष्ट्रपति ने कहा कि इसे एक सामाजिक आंदोलन के रूप में बढ़ावा देना होगा। राज्यपाल मंगुभाई पटेल और मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव के नेतृत्व में मध्यप्रदेश सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक क्षेत्र में निरंतर प्रगति कर रहा है और देश के अग्रणी राज्यों में शामिल होगा।

डिंडोरी में विश्व सिकल सेल दिवस-2024 के राज्य स्तरीय कार्यक्रम में उप राष्ट्रपति ने शासकीय चन्द्रविजय महाविद्यालय में दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर राज्यपाल पटेल, मुख्यमंत्री डॉ. यादव, उप मुख्यमंत्री राजेन्द्र शुक्ल, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री प्रहलाद पटेल, सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते, और उप राष्ट्रपति की पत्नी श्रीमती सुदेश धनखड़ भी उपस्थित थीं। कार्यक्रम में जनजातीय कलाकारों ने पारंपरिक नृत्य से अतिथियों का स्वागत किया।

उप राष्ट्रपति ने कार्यक्रम स्थल पर पौध-रोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया और विभिन्न विभागों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन किया। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने उप राष्ट्रपति और उनकी पत्नी का पारंपरिक तरीके से स्वागत करते हुए उप राष्ट्रपति को गोंडी पेंटिंग भेंट की।

सिकल सेल एनीमिया उन्मूलन के लिए जारी प्रयासों पर केंद्रित लघु फिल्म


कार्यक्रम में सिकल सेल एनीमिया को नियंत्रित करने के प्रयासों पर केंद्रित एक लघु फिल्म का प्रदर्शन किया गया। राज्यपाल श्री पटेल ने बताया कि प्रदेश में अब तक लगभग 55 लाख से अधिक व्यक्तियों की जांच की जा चुकी है, जिनमें से 1,20,935 व्यक्ति बीमारी के वाहक हैं और 18,000 से अधिक लोग सिकल सेल एनीमिया से पीड़ित हैं।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने बताया कि राज्य सरकार सिकल सेल एनीमिया के उन्मूलन के लिए प्रतिबद्ध है और प्रभावित क्षेत्रों में जागरूकता, स्क्रीनिंग, उपचार और दवा वितरण की व्यापक व्यवस्था की गई है। राज्य सरकार द्वारा जनजातीय क्षेत्रों के समग्र विकास के हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं।

प्रधानमंत्री श्री मोदी का मिशन: सिकल सेल एनीमिया उन्मूलन


उप राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश की तेजी से प्रगति की प्रशंसा की और बताया कि भारत ने कई विकसित देशों को पीछे छोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने 2047 तक भारत को विकसित राष्ट्र बनाने और देश को सिकल सेल एनीमिया से मुक्त कराने का संकल्प लिया है।

उप राष्ट्रपति ने सिकल सेल उन्मूलन के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा जुलाई 2023 में शहडोल जिले से राष्ट्रीय सिकल सेल एनीमिया उन्मूलन मिशन-2047 की शुरुआत की जानकारी दी और कहा कि इस दिशा में राज्य सरकार अग्रणी भूमिका निभा रही है।

राज्यपाल श्री पटेल ने जनजातीय समुदाय में जागरूकता फैलाने पर जोर दिया


राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि मध्यप्रदेश में जनजातियों की जनसंख्या 1.90 करोड़ है और अब तक 55 लाख से अधिक लोगों की जांच की जा चुकी है। उन्होंने सिकल सेल एनीमिया के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए जनजातीय समुदाय में विशेष प्रयास करने की आवश्यकता बताई।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव का संकल्प: जनजातीय क्षेत्र में विकास


मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि राज्य सरकार सिकल सेल उन्मूलन के लिए प्रतिबद्ध है और जनजातीय क्षेत्रों के समग्र विकास के हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने उप राष्ट्रपति श्री धनखड़ का स्वागत करते हुए कहा कि डिंडोरी क्षेत्र आधुनिकता की दृष्टि से भले ही पिछड़ा हो पर यहां के लोग प्रेम, सद्भाव और समर्पण की भावना से परिपूर्ण हैं। उन्होंने कहा कि राज्यपाल श्री पटेल की महत्वपूर्ण भूमिका सिकल सेल उन्मूलन के प्रयासों में प्रेरक रही है।

Related News

Latest News

Global News