×

इंडियनऑयल भारत के ऊर्जा परिवर्तन को शक्ति प्रदान करने के लिए हरित संपत्ति को एक छत्र के नीचे समेकित करेगा

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 843

Bhopal: 16 मार्च 2023। आज आयोजित पहले इंडियनऑयल ग्रीन एनर्जी शिखर सम्मेलन के दौरान, इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (इंडियनऑयल), देश के शीर्ष रिफाइनर और ईंधन खुदरा विक्रेता, ने भारत के हरित ऊर्जा संक्रमण को उत्प्रेरित करने के लिए स्थिरता प्रयासों की एक विस्तृत श्रृंखला साझा की। कंपनी ने अपनी सभी मौजूदा हरित संपत्तियों को एक छतरी के नीचे समेकित करने और जैव ईंधन, नवीकरणीय ऊर्जा, हरित हाइड्रोजन और सीसीयूएस (कार्बन ऑफसेट और कार्बन कैप्चर, उपयोगिता और भंडारण) जैसे स्थायी ऊर्जा मार्गों में तेजी से विस्तार करने के अपने इरादे को रेखांकित किया।

इस अवसर पर बोलते हुए इंडियनऑयल के अध्यक्ष श्री एस एम वैद्य ने टिप्पणी की, "जहां इंडियनऑयल भारत की तेजी से बढ़ती ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है, वहीं हम भारत के हरित ऊर्जा परिवर्तन के ध्वजवाहक बनने के लिए भी प्रतिबद्ध हैं। इस प्रकार हम अपने हरित प्रयासों को बढ़ा रहे हैं। एक निश्चित फोकस, और आगे बढ़ते हुए; हम बेहतर सहक्रिया के लिए अपनी हरित संपत्तियों को एक छतरी के नीचे समेकित करेंगे। हमारे महत्वाकांक्षी हरित रोडमैप में वाणिज्यिक स्तर के हरित व्यवसायों को पोषित करने के लिए प्रभावी सहयोग स्थापित करना भी शामिल है। हम दुनिया भर में निवेशकों और प्रौद्योगिकी प्रदाताओं को अवसर प्रदान करेंगे। हमारी यात्रा में भागीदार बनने के लिए हमारा लक्ष्य एक पोर्टफोलियो बनाना है

● 2025 तक 3 GW नवीकरणीय ऊर्जा और 0.6 MMT जैव ईंधन;

● 2030 तक 35 GW नवीकरणीय ऊर्जा, 4 MMT जैव ईंधन और 1 MMT बायोगैस और

● 2050 तक 200 GW नवीकरणीय ऊर्जा, 7 MMT जैव ईंधन और 9 MMT बायोगैस।

परियोजना निष्पादन पर इंडियनऑयल की सर्वश्रेष्ठ-इन-क्लास क्षमता हमारे देश भर में प्रत्येक भारतीय को सुलभ, कम लागत वाली ऊर्जा प्रदान करने में महत्वपूर्ण होगी।"

नवीकरणीय ऊर्जा पदचिह्न का विस्तार करना

इंडियनऑयल का नवीकरणीय ऊर्जा पोर्टफोलियो वर्तमान में 239 मेगावाट है, जिसे नई पवन, सौर, जलविद्युत और पंप वाली जलविद्युत परियोजनाओं के माध्यम से विस्तारित किया जा रहा है। हम अपनी नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता को लगभग 2.8 GW बढ़ाने के लिए NTPC के साथ भी सहयोग कर रहे हैं। 121 मेगावाट की स्थापित क्षमता वाले 20,705 रिटेल आउटलेट्स को सोलराइज़ करके आपूर्ति श्रृंखला को भी हरा-भरा बनाया जा रहा है। 4700 चार्जिंग स्टेशन और 66 बैटरी स्वैपिंग स्टेशन स्थापित करके ईवी में पहल तेज की जा रही है। IOC Phinergy Private Limited बनाने के लिए हाइब्रिड लिथियम-आयन और एल्युमीनियम-एयर बैटरी सिस्टम में विशेषज्ञता वाली इज़राइली स्टार्ट-अप कंपनी फ़िनर्जी के साथ एक सहयोग किया गया है। विभिन्न अन्य बैटरी केमिस्ट्री का भी पता लगाया जा रहा है।

भारत की हरित हाइड्रोजन क्रांति का नेतृत्व करना

इंडियनऑयल ने देश के हरित हाइड्रोजन पारिस्थितिकी तंत्र में भी अपनी उपस्थिति मजबूती से बनाई है। ग्रीन हाइड्रोजन व्यवसाय के लिए कंपनी ने ReNew Power Private Limited (ReNew) और Larson & Toubro Limited (L&T) के साथ सहयोग किया है। पानीपत रिफाइनरी में 7 केटीपीए ग्रीन हाइड्रोजन क्षमता का विकास किया जा रहा है। गुजरात रिफाइनरी में हाइड्रोजन वितरण के लिए रिफाइनरी इकाई से हाइड्रोजन का उपयोग करके एक प्रदर्शन सुविधा स्थापित की गई है। इंडियनऑयल का अनुसंधान एवं विकास केंद्र भी पूरी तरह से निम्न-कार्बन प्रौद्योगिकियों और उत्पादों के विकास की ओर उन्मुख है।

जैव ईंधन में प्रवेश करना और हरित पेशकशों का विस्तार करना

इंडियनऑयल ने पहले ही जैव ईंधन के क्षेत्र में गहरी पैठ बना ली है। इथेनॉल, जैव-डीजल, संपीड़ित जैव गैस (सीबीजी), जैविक खाद, सतत विमानन ईंधन (एसएएफ) और अपशिष्ट से ऊर्जा में विभिन्न जैव ईंधन परियोजनाओं और पहलों को कार्यान्वित किया जा रहा है। इंडियनऑयल ने पानीपत में अपने धान के पुआल आधारित 2जी इथेनॉल संयंत्र और रिफाइनरी ऑफ-गैस आधारित 3जी इथेनॉल संयंत्रों की स्थापना की है। इंडियनऑयल ने एसएटीएटी पहल के तहत 20 सीबीजी संयंत्र चालू किए हैं। सीबीजी को इंडियनऑयल द्वारा इंडिग्रीन ब्रांड नाम के तहत पूरे भारत में 41 रिटेल आउटलेट्स से भी बेचा जा रहा है। इंडियनऑयल ने जयपुर, राजस्थान में सीबीजी संयंत्र के लिए प्रति दिन 100 टन गोबर और गोरखपुर, यूपी में सीबीजी संयंत्र के लिए 200 टीपीडी मिश्रित अपशिष्ट (धान की पुआल, प्रेस मिट्टी, मवेशियों का गोबर) भी स्थापित किया है। इंडियनऑयल इंडिग्रीन, XP95, XP 100, एक्स्ट्राग्रीन, एक्स्ट्रा तेज, सर्वो रफ़्तार आदि जैसे अभिनव समाधानों के साथ अपने हरित उत्पादों के गुलदस्ते का भी विस्तार कर रहा है।

भारत के ऊर्जा परिवर्तन का नेतृत्व करना

ब्लूमबर्ग न्यू एनर्जी फाइनेंस (बीएनईएफ) द्वारा जारी संक्रमण पर वैश्विक रैंकिंग के अनुसार इंडियनऑयल तेल और गैस क्षेत्र में भारतीय कॉरपोरेट्स में अग्रणी है। वैश्विक स्तर पर इंडियनऑयल को रैंकिंग में 22वां स्थान मिला है। इंडियनऑयल ने कुल कैपेक्स के हिस्से के रूप में कम कार्बन निवेश के लिए तेल और गैस कॉरपोरेट्स में भी शीर्ष स्थान हासिल किया है, रिपोर्ट के अनुसार कम कार्बन निवेश में इंडियनऑयल की हिस्सेदारी इसके कुल कैपेक्स का 1.8% है। आज, इंडियनऑयल देश की 9% ऊर्जा जरूरतों को पूरा करता है और 2030 तक इस हिस्से को 12% तक बढ़ाने की इच्छा रखता है।


Madhya Pradesh, प्रतिवाद समाचार, प्रतिवाद, MP News, Madhya Pradesh News, Hindi Samachar, prativad.com

Related News

Latest News

Global News