आजादी के बाद आज सही मायने में भारत पहला जनजातीय गौरव दिवस मना रहा है : प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: DD                                                                         Views: 1335

Bhopal: गांधी-पटेल-अंबेडकर जयंती की तरह हर वर्ष जनजातीय गौरव दिवस मनाने का लें संकल्प
स्वतंत्रता संग्राम में योगदान के लिये जनजातीय समाज का आभार
शिवराज सरकार ने आज जनजातीय कल्याण की कई योजनाएँ की प्रारंभ
म.प्र. में कोरोना के दोनों टीके लगवाकर जनजातीय समाज ने उदाहरण प्रस्तुत किया
शिवराज सरकार की राशन आपके ग्राम योजना और म.प्र. सिकल सेल मिशन जनजातीय समुदाय के स्वास्थ्य-पोषण में अहम भूमिका निभाएंगे
जनजातियों की हर बात में होता है कोई न कोई तत्व-ज्ञान
जनजातीय भागीदारी के बिना आत्म-निर्भर भारत का निर्माण संभव नहीं
जनजातीय समाज का भारतीय संस्कृति में महत्वपूर्ण योगदान
जनजातीय समाज का हित हमारी सरकार की सर्वोंच्च प्राथमिकता
देश में 750 एकलव्य रेसीडेंशियल स्कूल खोले जा रहे है
नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्थानीय भाषा में शिक्षा पर जोर देने का लाभ जनजातीय छात्र-छात्राओं को मिलेगा
जनजातीय समुदाय के पदम पुरस्कार विजेता देश के असली गौरव
रानी दुर्गावती के शौर्य और रानी कमलापति के बलिदान को देश नहीं भूल सकता
जनजातीय वीरों की गाथाओं से नई पीढ़ी को परिचित करना हमारा कर्त्तव्य
जनजातीय समुदाय के लिए आजादी के बाद जो करना था, जब करना था, जितना करना था, नहीं किया गया
गुजरात के मुख्यमंत्री के बाद से ही मैंने जनजातीय भलाई के कार्यों को सर्वोच्च प्राथमिकता में रखा
जनजातीय किसानों को सम्मान निधि और शुद्ध पेयजल प्रदाय का काम तेजी से
जनजातीय समुदायों पर पिछड़े होने का टैग दुर्भाग्यपूर्ण
जनजातीय सम्मेलन में प्रधानमंत्री श्री मोदी का पारम्परिक स्वागत
प्रधानमंत्री श्री मोदी भोपाल में बिरसा मुंडा जयंती पर जनजातीय गौरव दिवस में हुए शामिल
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने जनजातीय गौरव की पुनर्स्थापना की : मुख्यमंत्री श्री चौहान
भगवान बिरसा मुंडा का सम्मान समूची जनजाति का सम्मान
प्रधानमंत्री श्री मोदी ने स्वदेशी वैक्सीन के रूप में हमें दिया ज़िंदगी का डोज़
जनजातीय गौरव दिवस जनजातियों की ज़िंदगी बदलने का अभियान
मोदी जी के राज में हर व्यक्ति को रोटी, कपड़ा, मकान, पढ़ाई, लिखाई और रोजगार
प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में प्रदेश के विकास में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेंगे

भोपाल 15 नवम्बर 2021, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि आज भारत सही मायने में अपना प्रथम जनजातीय गौरव दिवस मना रहा है। आजादी के बाद देश में पहली बार इतने बड़े पैमाने पर जनजातीय कला, संस्कृति, स्वतंत्रता संग्राम में उनके योगदान को गौरव एवं सम्मान प्रदान करने के लिये मध्यप्रदेश सरकार द्वारा यह आयोजन किया जा रहा है। इसके लिये मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान बधाई के पात्र हैं।

भारत सरकार ने भी फैसला किया है कि 15 नवम्बर को पूरे देश में हर वर्ष गांधी-पटेल-अंबेडकर जयंती की तरह ही वृहद पैमाने पर जनजातीय गौरव दिवस मनाया जायेगा तथा जनजातीय समाज के योगदान को जन-जन तक पहुँचाया जाएगा। आज शिवराज सरकार जनजातीय वर्ग के कल्याण के लिये कई योजनाओं की शुरूआत कर रही है। यह अत्यंत हर्ष काविषय है।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी आज जंबूरी मैदान में आयोजित जनजातीय गौरव दिवस में शामिल हुए। उन्होंने इस अवसर पर जनजातीय कल्याण की विभिन्न योजनाओं की शुरूआत की। उन्होंने "राशन आपके ग्राम" योजना का शुभारंभ करते हुए डिंडोरी के श्री अनिल तथा मंडला के श्री लक्ष्मीनारायण को राशन वाहनों की चाबी सौंपी। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने सिकल सेल रोग उन्मूलन मिशन का शुभारंभ करते हुए झाबुआ की सुश्री हशीला, अलीराजपुर की सुश्री सीना डुडवे तथा झाबुआ के श्री मनीष सिंह सिकरवार को जेनेटिक काउंसलिंग कार्ड प्रदान किये।

प्रधानमंत्री श्री मोदी के सम्मुख राशन आपके ग्राम योजना, मध्यप्रदेश सिकलसेल मिशन और प्रदेश में टीकाकरण उपलब्धि तथा शत शत प्रतिशत कोविड-19 करो उपलब्धि वाले जनजातीय बहुल ग्राम नरसिंहरूंडा जिला झाबुआ पर आधारित लघु फिल्मों का प्रदर्शन किया गया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने 50 एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालयों का वर्चुअल भूमि पूजन भी किया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने रतलाम जिले के बाजना में बने एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय का लोकार्पण भी किया। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र भाई मोदी ने मंच से आम जनता का अभिवादन किया। उन्होंने भगवान बिरसा मुंडा की जयंती पर उनकी तस्वीर पर पुष्प अर्पित किए।

कार्यक्रम में राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने विशेष पिछड़े जनजातीय क्षेत्रों के लिये नियुक्त माध्यमिक शिक्षकों श्री विवेक कुमार भारिया तथा सुश्री पिंकी सहरिया को नियुक्ति-पत्र प्रदान किये। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने श्री रविशंकर भीमसेनी भारिया को नियुक्ति-पत्र प्रदान किया।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि यहाँ जनजातीय कलाकारों द्वारा अत्यंत मनोहारी एवं अर्थपूर्ण नृत्य-गीत की प्रस्तुति दी गई है। मैं इन्हें ध्यान से देख रहा था। इनके हर नृत्य, गीत, जीवन-शैली, परंपराओं में कोई न कोई तत्व ज्ञान होता है। आज यह नृत्य गीत मुझे बता रहे थे कि जीवन 4 दिन का होता है, फिर मिट्टी में मिल जाता है, धरती, खेत, खलिहान किसी के नहीं रहते, धन-दौलत यहीं छोड़कर जानी होती है। मन में गुमान करना व्यर्थ है। जीवन का उत्तम तत्व ज्ञान जंगल में रहने वाले ये जनजातीय भाई-बहन हमें बताते हैं। हम अभी यह सब सीख रहे हैं।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि मध्यप्रदेश में जनजातीय समाज ने कोरोना के दोनों टीके लगवाकर पढ़े-लिखे समाज के सामने उत्तम उदाहरण प्रस्तुत किया है। देश को बचाने में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। उन्होंने मध्यप्रदेश के झाबुआ जिले के नरसिंहरुंडा ग्राम में शत-प्रतिशत कोरोना वैक्सीनेशन की सराहना की।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि जनजातीय समाज का भारतीय संस्कृति में महत्वपूर्ण योगदान है। भगवान श्री राम को वनवास के दौरान जनजातीय समाज द्वारा दिये गये सहयोग ने ही मर्यादा पुरूषोत्तम बनाया। जनजातीय समाज की परंपराओं, रीति-रिवाजों, जीवन-शैली से हमें प्रेरणा मिलती है।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि जनजातीय समाज का हित हमारी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। देश का विकास तब तक संभव नहीं है, जब तक हर व्यक्ति की इसमें उचित हिस्सेदारी न हो। सरकार द्वारा हर अन्य वर्गों की तरह जनजातीय समाज को भी तरक्की का हर मौका दिया गया है। जनजातीय क्षेत्रों में भी शिक्षा, आवास, बिजली, गैस, इलाज आदि सभी सुविधाएँ पहुँचाई गई हैं। देश में जल-जीवन मिशन प्रारंभ कर हर घर में नल से जल पहुँचाया जा रहा है।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि जनजातीय क्षेत्रों में विकास की व्यापक संभावनाएँ हैं, जिन पर निरंतर कार्य किया जा रहा है। जनजातीय क्षेत्रों के सामर्थ्य के सही इस्तेमाल की नीति बनाई गई है। जनजातीय भागीदारी के बिना आत्म-निर्भर भारत का निर्माण संभव नहीं है।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि जनतातीय कलाकारों में सृजन की अद्भुत क्षमताएँ हैं। आज जनजातीय कलाकृति प्रदशर्नी में श्रेष्ठ कलाकृतियाँ देखने को मिली हैं। इन कलाकारों की अंगुलियों में अद्भुत ताकत है। जनजातीय कलाकृतियों एवं उत्पादों को सरकार द्वारा अब उचित बाजार प्रदान किया जा रहा है। इन्हें आत्म-निर्भर बनाने के लिये निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं। ट्राइफेड पोर्टल के माध्यम से जनजातीय उत्पादों को राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय बाजार उपलब्ध कराया जा रहा है।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि केन्द्र एवं राज्य सरकारें निरंतर जनजातीय कल्याण के कार्य कर रही हैं। सरकार द्वारा 20 लाख जनजातीय व्यक्तियों को वनभूमि के पट्टे प्रदान किये गये हैं। जनजातीय युवाओं के शिक्षा एवं कौशल विकास के लिये देशभर में 750 एकलव्य आवासीय आदर्श विद्यालय खोले जा रहे हैं, जिनमें से 50 का आज शिलान्यास किया गया है। केन्द्र सरकार द्वारा 30 लाख विद्यार्थियों को हर वर्ष छात्रवृत्ति दी जा रही है। अगले 7 वर्षों में 9 जनजातीय शोध संस्थान खोले जाएंगे। सरकार द्वारा 90 वनउपजों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित किया गया है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि भारत सरकार ने जो 150 से अधिक मेडिकल कॉलेज मंजूर किए हैं, उनमें जनजातीय बहुल जिलों को प्राथमिकता दी गई है। इसी तरह जल जीवन मिशन में मध्यप्रदेश में जिन 30 लाख परिवारों को घर-घर पीने का पानी पहुँचाया जा रहा है, उनमें अधिकांश जनजातीय बंधु हैं। जनजातीय वर्ग की बहनें और बेटियाँ इसके पहले दूर-दूर पानी लेने के लिए जाती थीं।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि खनिज नीति में ऐसे परिवर्तन किए जिनसे जनजातीय वर्ग को वन क्षेत्रों में खनिजों के उत्खनन से लाभ मिलने लगा है। जिला खनिज निधि से 50 हजार करोड़ के लाभ में जनजातीय वर्ग हिस्सेदार है। जनजातीय समाज को यह सम्पदा काम आ रही है। खनन क्षेत्र में रोजगार संभावनाओं को बढ़ाया गया है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि बाँस की खेती जैसे सरल कार्य को पूर्व सरकारों ने कानूनों में जकड़ दिया था, जिन्हें संशोधित कर अब जनजातीय वर्ग की छोटी-छोटी आवश्यकताओं की पूर्ति का मार्ग प्रारंभ किया गया है।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहाकि मोटा अनाज जो कभी उपेक्षित था, वह भारत का ब्राण्ड बन रहा है। जनजातीय बहनों को काम और रोजगार के अवसर दिलवाने का कार्य हो रहा है। जहां पहले 8 से 10 उपजों के लिए ही समर्थन मूल्य की व्यवस्था थी, वहीं अब करीब 90 वन उपजों पर समर्थन मूल्य दिया जा रहा है। जनजातीय वर्ग में प्रतिभा की कमी नहीं है, लेकिन इच्छाशक्ति के अभाव में पूर्व सरकारों ने इनके सृजन को सम्मान नहीं दिया। इनकी परम्पराओं का संरक्षण नहीं किया। आज भोपाल में जनजातीय बहनों द्वारा निर्मित वस्तुएँ देखकर उनके हुनर के प्रमाण मिले हैं।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने बताया कि प्रति विद्यार्थी जहाँ सिर्फ 40 हजार रूपए की राशि खर्च होती थी, अब सालाना एक लाख रूपए की राशि व्यय की जा रही है। जनजातीय विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा और शोध से भी जोड़ा जा रहा है। देश में कुछ वर्ष पहले तक 18 जनजातीय अनुसंधान केन्द्र थे, जो बढ़कर 27 हो गए हैं। नई शिक्षा नीति में जनजातीय वर्ग के बच्चों को मातृ भाषा की शिक्षा का लाभ भी मिलेगा।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहाकि जनजातीय वर्ग देश की पूँजी है। ये देश की ताकत हैं। सेवा भावना और कर्मठता उनका स्वभाव है। इसी सेवा भाव का उदाहरण शिवराज जी ने आज राशन आपके ग्राम योजना, सिकल सेल एनीमिया मिशन प्रांरभ करने के माध्यम से प्रस्तुत किया है। जनजातीय वर्ग को कोरोना काल में भी प्रधामनंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना से लाभान्वित किया गया। अब मध्यप्रदेश में नई योजना की शुरू होने से सस्ता राशन अपने ही ग्राम और घर में मिल जाने से समय और ऊर्जा की बचत होगी।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि आज ही उन्होंने रांची में भगवान बिरसा मुंडा के संग्रहालय का वर्चुअल लोकार्पण किया है। हमारा कर्तव्य है कि नई पीढ़ी को हमारे संग्रामों और जनजातीय नायकों के योगदान से परिचित करवाएं। चाहे रानी दुर्गावती हो या रानी कमलापति उन्हें राष्ट्र भूल नहीं सकता। जनजातीय वर्ग के महत्वपूर्ण योगदान को आजादी के बाद दशकों तक देश को नहीं बताया गया। देश की करीब 10 प्रतिशत जनजातीय आबादी की सांस्कृतिक खूबियों को नजरअंदाज किया गया।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने लगभग 100 वर्ष की आयु के इतिहासकार और लेखक श्री बाबा साहब पुरंदरे के अवसान पर भी शोक व्यक्त किया, जिनका आज अवसान हुआ है। बाबा साहब पुरंदरे नेशिवाजी महाराज के इतिहास को जन-जन तक पहुंचाया। भारत सरकार ने पद्म विभूषण से और मध्यप्रदेश शासन ने बाबा पुरंदरे जी को कालिदास सम्मान भी दिया था।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि प्रदेश के राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल मध्यप्रदेश के पहले जनजातीय राज्यपाल हैं। उन्होंने जनजातीय वर्ग के कल्याण के लिये अपना पूरा जीवन खपा दिया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि आजादी के अमृत काल में आज के दिन हम यह संकल्प भी ले रहे हैं कि राष्ट्र के विकास के लिए दिन-रात मेहनत करेंगे। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने प्रारंभ में समस्त राष्ट्रवासियों को बिरसा मुंडा जयंती और आजादी के अमृत महोत्सव की बधाई दी।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भारत में जनजाति गौरव की पुनर्स्थापना की है। भगवान बिरसा मुंडा की जयंती 15 नवम्बर को पूरे भारत वर्ष में जनजातीय गौरव दिवस के रूप में हर वर्ष मनाये जाने का निर्णय ऐतिहासिक है। भगवान बिरसा मुंडा का सम्मान समूची जनजाति का सम्मान है। प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा भोपाल में नव-निर्मित रेलवे स्टेशन का नाम जनजातीय रानी कमलापति के नाम पर किये जाकर उत्कृष्ट कार्य किया गया है। मैं प्रदेश की साढ़े 8 करोड़ जनता की ओर से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का हृदय से आभार व्यक्त करता हूँ।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि जनजातीय गौरव दिवस का आयोजन वस्तुत: जनजातियों की जिंदगी बदलने का अभियान है। यह जनजातियों के कल्याण, सम्मान एवं गौरव के लिये सरकार द्वारा लिया गया संकल्प है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने स्वदेशी वैक्सीन के रूप में हमें जिंदगी का डोज दिया है। सारी दुनिया ने इसकी सराहना की है। उन्होंने हर व्यक्ति के लिये रोटी, कपड़ा, मकान, पढ़ाई, लिखाई और रोजगार का इंतजाम किया है। उन्होंने डीजल एवं पट्रोल की कीमतों में उल्लेखनीय कमी की। डीएपी खाद की कीमत भी कम की। मोदी जी के राज में कोई भूखा नहीं सोता है। उन्होंने कोरोना काल में नि:शुल्क अनाज दिलवाया। प्रधानमंत्ë

Related News

Latest Tweets

Latest Posts