×

चीन ने मिटाया 10 साल का इंटरनेट डेटा: कई संगठनों और कंपनियों का ऑनलाइन अस्तित्व खो गया, मशहूर हस्तियों की साइबर पहचान मिटी

prativad news photo, top news photo, प्रतिवाद
Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 760

भोपाल: 6 जून 2024। एक ऐसे कदम में जिसने डिजिटल संरक्षण और ऑनलाइन स्वतंत्रता को लेकर चिंताएं पैदा कर दी हैं, चीन ने कथित रूप से बड़े पैमाने पर ऐतिहासिक इंटरनेट डेटा को हटा दिया है. अनुमानों से पता चलता है कि इस विलोपन में लगभग दस साल की जानकारी शामिल है, जो पूरे देश में व्यक्तियों, संगठनों और कंपनियों को प्रभावित करती है।

इस बड़े पैमाने पर डेटा हटाने के पीछे के सटीक कारण अस्पष्ट हैं। कुछ लोगों का अनुमान है कि यह इंटरनेट बुनियादी ढांचे और सामग्री विनियमन को सुव्यवस्थित करने के लिए एक सरकारी पहल से जुड़ा है। हालांकि, आलोचकों को डर है कि यह कार्रवाई चीन में अधिक नियंत्रित और सेंसर किए गए डिजिटल परिदृश्य की ओर एक महत्वपूर्ण कदम हो सकती है।

खोई हुई विरासत: लुप्त हो गए व्यवसाय और फीकी पड़ी हस्तियां
इस डेटा विलोपन का प्रभाव दूरगामी है। कई व्यवसायों, खासकर उन छोटे संस्थानों को जो ऑनलाइन उपस्थिति पर बहुत अधिक निर्भर थे, उनके डिजिटल फुटप्रिंट लगभग मिट गए हैं। रातोंरात वर्षों के ऑनलाइन विपणन प्रयास, ग्राहक बातचीत और वेबसाइट संग्रह गायब हो गए।

यह स्थिति व्यक्तियों के लिए भी उतनी ही चिंताजनक है. सार्वजनिक हस्तियों, कलाकारों और यहां तक ​​कि आम नागरिकों ने अपनी ऑनलाइन पहचान का एक महत्वपूर्ण हिस्सा खो दिया है। व्यक्तिगत ब्लॉग, सोशल मीडिया इतिहास और ऑनलाइन पोर्टफोलियो - जो सभी संभावित रूप से पेशेवर या व्यक्तिगत विकास के लिए महत्वपूर्ण हैं - को हटा दिया गया है।

चिंताएं और सवाल: पारदर्शिता और दीर्घकालिक प्रभाव
चीन सरकार ने अभी तक इस डेटा विलोपन का व्यापक स्पष्टीकरण नहीं दिया है। पारदर्शिता की कमी संभावित उद्देश्यों और दीर्घकालिक प्रभावों के बारे में चिंता को बढ़ावा देती है।

क्या कोई स्पष्ट चयन प्रक्रिया थी? किस मापदंड के आधार पर यह निर्धारित किया गया कि कौन सा डेटा हटाया जाए और कौन सा संरक्षित किया जाए?
क्या कोई डेटा पुनर्प्राप्ति योजना है?
यह ऐतिहासिक शोध और सूचना तक पहुंच को कैसे प्रभावित करेगा?
व वैश्विक प्रभाव: एक डिजिटल उदाहरण?

यह घटना ऑनलाइन डेटा के भविष्य और इसकी भेद्यता के बारे में सवाल खड़े करती है। क्या यह अन्य सरकारों के लिए भी ऐसा करने के लिए एक मिसाल हो सकता है? क्या सरकारी नीतियों या प्राथमिकताओं के आधार पर उपयोगकर्ता डेटा डिलीट होने के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाएगा?

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय चीन के कार्यों को करीब से देख रहा है। इस घटना में डेटा स्वामित्व, डिजिटल अधिकारों और ऑनलाइन जानकारी की सुरक्षा में सरकारों की जिम्मेदारी के बारे में वैश्विक बहस छिड़ने की क्षमता है।

- दीपक शर्मा

Related News

Latest News

Global News