होम्योपैथी कौंसिल के रजिस्ट्रार की योग्यता में बदलाव

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: DD                                                                         Views: 166

Bhopal: लॉकडाऊन में बदले 24 बरस पुराने नियम
17 मई 2020। राज्य सरकार ने लॉकडाऊन के चलते प्रदेश की होम्योपैथी कौंसिल के रजिस्ट्रार पद की योग्यता के नियम बदल दिये हैं। योग्यता के ये नियम 24 साल बाद बदले गये हैं।
दरअसल 24 साल पहले बने मप्र होम्योपैथी परिषद अधिकारी तथा अन्य सेवक भर्ती तथा सेवा की शर्तें नियम 1996 में प्रावधान था कि परिषद यानि कौंसिल के रजिस्ट्रार पद हेतु योग्यता बीए, बीकॉम या विधि स्नातक होगी। यह योग्यता तत्कालीन दिग्विजय सिंह सरकार ने निर्धारित की थी क्योंकि उस समय ऐसे ही योग्यता वाले किसी व्यक्ति को रजिस्ट्रार बनाना था। चूंकि कौंसिल होम्योपैथी डाक्टरों का पंजीयन करती है इसलिये इसमें रजिस्ट्रार होम्योपैथी डाक्टर ही होना चाहिये थे। लेकिन इस विसंगति की ओर लम्बे समय तक किसी का ध्सान नहीं गया। हालांकि बाद के सालों में कौंसिल में होम्योपैथी डाक्टर ही रजिस्ट्रार बनाये जाते रहे लेकिन नियमों में बदलाव नहीं किया गया जिससे रजिस्ट्रार पद पर नियुक्त होम्योपैथी डाक्टर की योग्यता पर सवाल उठने लगे थे। इसीलिये अब जाकर उक्त नियमों में योग्यता के नियम बदले गये हैं।
अब यह किया गया प्रावधान :
नियमों में 24 साल बाद बदलाव कर नया प्रावधान किया गया है कि होम्योपैथी कौंसिल के रजिस्ट्रार पद की लिये योग्यता होगी कि उसे किसी मान्यता प्राप्त विवि से होम्योपैथी में स्नातकोत्तर उपाधि तथा पांच वर्ष का प्रशासनिक अनुभव होना जरुरी होगा तथा विधि स्नातक आवेदक को अधिमानता दी जायेगी।
यह भी किया दूसरा बदलाव :
नियमों में दूसरा यह भी बदलाव किया गया है कि अब कौंसिल के अधीक्षक एवं शीघ्रलेखक दोनों सहायक रजिस्ट्रार पद पर पदोन्नति के हकदार होंगे।
लॉंकडाऊन में चलाया नवीनीकरण का अभियान :
होम्योपैथी कौंसिल ने लॉकडाऊन के दौरान होम्योपैथी डाक्टरों के पंजीयन का नवीनीकरण कराने का अभियान चलाया। कौंसिल में करीब 19 हजार होम्योपैथी डाक्टर पंजीकृत हैं तथा हर पांच साल बाद इनके पंजीयन का नवीनीकरण किया जाता है। जिन होम्योपैथी डाक्टरों के मोबाईल नंबर थे उन पर उन्हें नवीनीकरण कराने के मैसेज भेजे गये तथा ऑनलाईन नवीनीकरण कराने के लिये कहा गया। 12 हजार में से 11 हजार होम्योपैथी डाक्टरों ने अपना ऑनलाईन नवीनीकरण करा लिया है। शेष बचे 7 हजार डाक्टरों का पता-ठिकाना ढूंढा जा रहा है।
विभागीय अधिकारी ने बताया कि होम्योपैथी कौंसिल के नियमों में रजिस्ट्रार पद की योग्यता को लेकर विसंगति थी जिसे अब दूर कर दिया गया है। इसके अलावा अभियान चलाकर ग्यारह हजार डाक्टरों के पंजीसन का नवीनीकरण कराया गया है। शेष बचे डाक्टरों का पता-छिकाना ज्ञात किया जा रहा है।



- डॉ. नवीन जोशी

Related News

Latest Tweets