×

वैश्विक चुनौतियों के बावजूद भारत-रूस व्यापार में तेजी आएगी

Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 2683

भोपाल: 27 दिसंबर 2023। भारत और रूस के बीच आर्थिक सहयोग के एक ऐतिहासिक वर्ष की तैयारी है, द्विपक्षीय व्यापार के अंत तक $50 बिलियन के आंकड़े को पार करने का अनुमान है, रूस के व्यापार मंत्री डेनिस मंटुरोव के अनुसार। यह उल्लेखनीय उछाल दोनों देशों के वैश्विक चुनौतियों का सामना करने के बावजूद आया है, जो दोनों देशों के बीच गहराते संबंधों को उजागर करता है।

यह घोषणा जयशंकर की चार दिवसीय मॉस्को और सेंट पीटर्सबर्ग यात्रा के दौरान हुई, जहां उन्होंने 'रूस' एक्सपो में मंटुरोव के साथ मुलाकात की। उनकी चर्चा में व्यापार, निवेश, बैंकिंग, लॉजिस्टिक्स, ऊर्जा और खाद्य सुरक्षा सहित कई क्षेत्रों को शामिल किया गया। विशेष रूप से संयुक्त औद्योगिक परियोजनाओं को आगे बढ़ाने पर जोर दिया गया।

अपने सहयोग को मजबूत करने के लिए, दोनों देशों ने स्वास्थ्य देखभाल विनियमन पर एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए और भारत के दक्षिणी राज्य तमिलनाडु में कुडनकुलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र में अतिरिक्त रिएक्टर बनाने पर सहमति व्यक्त की। यह विस्तार भारत की ऊर्जा सुरक्षा को बढ़ावा देगा और रूस की भूमिका को अपने परमाणु क्षेत्र में एक प्रमुख साझेदार के रूप में मजबूत करेगा।

व्यापार में उछाल आंशिक रूप से भारत द्वारा रूस से तेल और कोयले जैसे कच्चे माल के बढ़ते आयात से प्रेरित है, जो रूस पर लगाए गए पश्चिमी प्रतिबंधों से प्रेरित है। नई दिल्ली रूस से रक्षा उपकरणों सहित रणनीतिक वस्तुओं की तलाश कर रही है, जिससे उसके व्यापार में और विविधता लाने और घनिष्ठ वित्तीय संबंधों को बढ़ावा मिलेगा।

SWIFT भुगतान प्रणाली अब आसानी से उपलब्ध नहीं होने के कारण, दोनों देश वैकल्पिक लेनदेन विधियों की खोज कर रहे हैं, जिसमें रुपये और रूबल में प्रत्यक्ष निपटान शामिल हैं। रूस के भारतीय बैंकों में एक महत्वपूर्ण अधिशेष है, जो बढ़ते व्यापार की मात्रा को सुविधाजनक बनाने के लिए एक मजबूत रुपया-रूबल भुगतान तंत्र की आवश्यकता को उजागर करता है।

कुल मिलाकर, जयशंकर की यात्रा और अनुमानित व्यापार में उछाल भारत और रूस के बीच एक लचीले और पारस्परिक रूप से लाभकारी साझेदारी का चित्र पेश करता है। जटिल वैश्विक स्थिति के बावजूद, दोनों देश सक्रिय रूप से अपने आर्थिक और रणनीतिक संबंधों को मजबूत कर रहे हैं, जो एक समृद्ध भविष्य के लिए मंच तैयार कर रहे हैं।

Related News

Latest News

Global News