×

रचा इतिहास: दिमाग में लगाई चिप नें किया काम शुरू, अब मस्तिष्क संकेतों से चलेगा कंप्यूटर

Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 2397

भोपाल: 22 फरवरी 2024। एलोन मस्क ने अपनी ब्रेन-कंप्यूटर इंटरफेस कंपनी, न्यूरालिंक के लिए एक बड़ी उपलब्धि की घोषणा की है। कंपनी के चिप से प्रत्यारोपित पहला मानव रोगी न केवल पूरी तरह से ठीक हो गया है, बल्कि केवल अपने विचारों का उपयोग करके कंप्यूटर माउस को नियंत्रित करने में भी सफल हो गया है।

यह ब्रेन-कंप्यूटर टेक्नोलॉजी में एक महत्वपूर्ण कदम है। एक विशेष रोबोट का उपयोग करके प्रत्यारोपित किया गया सिक्के के आकार का चिप, गति के इरादे से संबंधित मस्तिष्क संकेतों को रिकॉर्ड और प्रसारित करता है। फिर इन संकेतों को एक ऐप द्वारा डिकोड किया जाता है, जिससे उपयोगकर्ता पारंपरिक भौतिक इनपुट उपकरणों की आवश्यकता के बिना कंप्यूटर के साथ बातचीत कर सकता है।

शुरुआती प्रगति आशाजनक है: रोगी वर्तमान में केवल इसके बारे में सोचकर माउस कर्सर को स्क्रीन पर ले जा सकता है। न्यूरालिंक इस नियंत्रण को परिष्कृत करने की ओर काम कर रहा है, जिसका लक्ष्य सटीक गतिविधियों और माउस बटन क्लिक्स को सक्षम बनाना है, जिससे वस्तुओं को खींचने और पकड़ने जैसी गतिविधियाँ संभव हो सकें।

न्यूरालिंक का दीर्घकालिक दृष्टिकोण महत्वाकांक्षी है। यह "PRIME अध्ययन" एक पूरी तरह से प्रत्यारोपित ब्रेन-कंप्यूटर इंटरफेस विकसित करने का लक्ष्य है जो प्रौद्योगिकी के साथ बातचीत में क्रांति ला सकता है। साधारण कंप्यूटर नियंत्रण से परे, यह तकनीक लकवाग्रस्त, अंधे और यहां तक कि ऑटिज्म और डिप्रेशन जैसे न्यूरोलॉजिकल विकारों वाले व्यक्तियों के लिए जीवन बदलने वाले समाधान प्रदान कर सकती है।

एलोन मस्क इस तकनीक के महत्व पर जोर देते हैं, मानवता के भविष्य के लिए भी। उनका मानना ​​है कि तेजी से शक्तिशाली कृत्रिम बुद्धिमत्ता के साथ सह-अस्तित्व के लिए संचार और सूचना प्रसंस्करण के नए रूप आवश्यक हैं। उनका सुझाव है कि न्यूरालिंक न केवल खोई हुई क्षमताओं को बहाल कर सकता है बल्कि टेलीपैथिक संचार को भी सक्षम कर सकता है और अंततः, AI के साथ एक सहजीवी संबंध बना सकता है।

यह खबर ब्रेन-कंप्यूटर इंटरफेस विकास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। न्यूरालिंक की प्रगति, यदि इसी तरह जारी रहती है, तो मानव-मशीन संपर्क के भविष्य और यहां तक कि हम जिस तरह से दुनिया का अनुभव करते हैं, उसे बदलने के लिए गहरा प्रभाव डाल सकती है।

ब्रेन-कंप्यूटर इंटरफेस के नैतिक निहितार्थ जटिल हैं और सावधानीपूर्वक विचार की आवश्यकता है।
इस तकनीक की सुरक्षा और प्रभावकारिता सुनिश्चित करने के लिए और अधिक शोध और परीक्षण की आवश्यकता है।
ऐसी तकनीक तक पहुंच समान होनी चाहिए और मौजूदा सामाजिक असमानताओं को बढ़ाने से बचना चाहिए।
यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि यह अभी भी प्रारंभिक चरण का शोध है, और न्यूरालिंक के प्रौद्योगिकी के पूर्ण प्रभाव की भविष्यवाणी करना जल्दबाजी होगी। फिर भी, यह प्रारंभिक सफलता एक महत्वपूर्ण कदम आगे का प्रतिनिधित्व करती है और हमारे भविष्य को बदलने के लिए ब्रेन-कंप्यूटर इंटरफेस की रोमांचक क्षमता को रेखांकित करती है।

Related News

Latest News

Global News