×

भोज वेटलैंड विंटर बर्ड कॉउंट का समापन : 210 प्रतिभागियों ने 155 प्रजातियाँ के लगभग 30000 पक्षियों की जनसँख्या को चिन्हित किया

Location: Bhopal                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 2884

Bhopal: 05 फरवरी 2023। भोपाल बर्ड्स द्वारा मध्य प्रदेश राज्य वेटलैंड अथॉरिटी, वन विहार राष्ट्रीय उद्यान एवं व्ही एन एस नेचर सेवियर्स के सहयोग से चौथे भोज वेटलैंड विंटर बर्ड काउंट कार्यक्रम 2022 -23 के आखरी चरण का आयोजन किया गया। इस कॉउंट का उद्देश्य भोज ताल में पाई जाने वाली स्थानीय और प्रवासी पक्षियों को चिन्हित कर उनकी गणना करना है।
कार्यक्रम में 210 वालंटियर्स ने भाग लिया
भोज वेटलैंड विंटर बर्ड काउंट कार्यक्रम 2022 -23 में दिसंबर से अब तक 9 राज्यों के 210 प्रतिभागियों ने वालंटियर रूप में भाग लिया है। इनमे महाराष्ट्र, वेस्ट बंगाल, हरयाणा, बिहार, केरल, असम, कर्नाटका आदि राज्यों के प्रतिभागी भाग ले चुके हैं।
5 चरण में की गई गणना
भोज वेटलैंड विंटर बर्ड काउंट कार्यक्रम 2022 -23 में दिसंबर से फरवरी तक 5 चरणों में गणना की गई जिसमे वन विहार राष्ट्रीय उद्यान, बिशनखेड़ी से बीलखेड़ा, बम्होरी, छोटा तालाब से बैरागढ़, बोरवन, नाथूबरखेड़ा से खजुरी सड़क तक भोज ताल को विभिन्न चरणों में बाँटकर गणना की गई।
दिसंबर से फरवरी तक में हुई पक्षी गणना के अंतर्गत 155 प्रजातियों की पहचान की गयी। जिनकी कुल सँख्या लगभग 30,000 रही। इनमे प्रवासी पक्षियों में रेड क्रेस्टेड पोचार्ड, कॉमन पोचार्ड, ब्लैक हेडेड आइबिस, रेड नेपड आइबिस, नॉर्थेर्न शोवलर, कॉमन टील, ब्लैक हेडेड बंटिंग, रेड हेडेड बंटिंग, ब्रह्मिनी शेल्डक, ब्लू थ्रोट, लैसर वाइट थ्रोट, ग्रीन सैंडपीपर, पेंटेड स्टोर्क, ब्राउन हेडेड गल्ल, ब्लैक हेडेड गल्ल, पर्पल हेरॉन, लार्ज कोर्मोरेंट, साइबेरियन स्टोन चैट, कॉमन चिफचैफ, यूरेशियन कूट, स्पॉट बिल डक, लैसर व्हिस्टलिंग डक, ब्लैक हेडेड आइबिस, ग्लॉसी आइबिस, रेड स्टार्ट, कॉमन स्निप, यूरेशियन रायनेक, ग्रे लेग गूस, इंडियन थिकनी आदि पक्षी चिन्हित किये गए।
गणना के दौरान संकटग्रस्त प्रजातियों में सारस क्रेन, पेंटेड स्टोर्क, ओरिएंटल डार्टर, अलेक्सेंड्रिन पैराकीट, ब्लैक हेडेड आइबिस आदि को भी चिन्हित किया गया है।
गणना के दौरान चिन्हित की गई दुर्लभ फायर कैप्ड टिट
गणना के दौरान दुर्लभ पक्षी फायर कैप्ड टिट को चिन्हित किया गया। यह पक्षी 10 से मी का छोटा सा पक्षी होता है जो ठण्ड के दौरान प्रवास कर हिमालय से निचले क्षेत्रों में प्रवास करता है। यह पक्षी 1800 मीटर से 2600 मीटर की ऊंचाई पर घोंसले बनाते हैं। इसके सर पर लाल निशान होता है जिसके कारण इसे फायर कैप्ड टिट कहा जाता है।
पांचवे चरण की गणना में स्त्रोत व्यक्ति के रूप में डॉ संगीता राजगीर, श्री मो खालिक, डॉ विपिन धोटे, श्रीमती कृताली चिंदरकर, श्री अंकित मालवीय उपस्तिथ रहे।
कार्यक्रम के अंत में मुख्य अतिथि श्री अरविन्द पुरोहित ( विशेष कर्त्तव्य अधिकारी, राजभवन) द्वारा प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र वितरित किये गए। गणना पर आधारित विस्तृत रिपोर्ट जल्द ही प्रकाशित की जाएगी।

Madhya Pradesh, MP News, Madhya Pradesh News, Hindi Samachar, prativad.com


Related News

Latest News

Global News