×

हैकर्स भोपाल के बच्चों की ताक में: ऑनलाइन गेमिंग के जरिए ब्लैकमेलिंग कर रहें

Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 1341

भोपाल: 9 फरवरी 2024। जनवरी में छह मामले दर्ज किए गए: साइबर अपराध अधिकारियों ने कहा कि बदमाशों द्वारा अपनाई जा रही नई कार्यप्रणाली को 'टास्क गेमिंग' कहा गया है।

जैसे ही नया साल 2024 शुरू हुआ है, साइबर बदमाशों की नजर बच्चों पर है, ताकि वे ऑनलाइन गेमिंग के जरिए उन्हें ब्लैकमेलिंग और अन्य अत्याचारों का शिकार बना सकें। जिला साइबर अपराध अधिकारियों ने इस घटना को 'टास्क गेमिंग' कहा है, जिसमें ऑनलाइन गेमिंग में शामिल बच्चों, आमतौर पर 13 से 19 वर्ष की उम्र के बीच, को अपने गेमिंग पोर्टल पर पैसे जमा करने के लिए कहा जाता है, और बाद में, जब वे जमा करते हैं पोर्टल पर जितनी अधिक धनराशि होगी, उतनी धनराशि बदमाश निकाल लेंगे।

इसके बाद बदमाश लक्षित बच्चों से अधिक पैसे की मांग करते हैं और जब वे ऐसा करने में विफल रहते हैं, तो उनकी अश्लील तस्वीरें ऑनलाइन प्रसारित करने की धमकी देकर उन्हें ब्लैकमेल करते हैं। जनवरी 2024 में ऐसे छह मामले पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज हुए हैं, जिनमें बच्चों को बदमाशों के हाथों 5 लाख रुपये तक का नुकसान हुआ है।

जिला साइबर अपराध सेल के अधिकारियों ने उक्त मामलों का संज्ञान लिया है, और आरोपियों तक पहुंचने के लिए जांच कर रहे हैं। बदमाशों की कार्यप्रणाली से वाकिफ जांच अधिकारियों ने बताया कि कई ऑनलाइन गेम में बदमाश लक्षित बच्चों को ऑनलाइन गेमिंग में शामिल होने के लिए खुद पैसे की पेशकश करते हैं।

एक बार जब बच्चे को गेम की लत लग जाती है तो वे खुद ही गेमिंग पोर्टल्स में पैसा लगा देते हैं। जब भी उनके पास पैसे की कमी होती है तो बदमाश उन्हें तुरंत लोन देने का ऑफर भी देते हैं। जब बच्चा ऋण चुकाने में असमर्थ हो जाता है, तो बदमाश, जिन्होंने उनकी सभी गैलरी तस्वीरों और संपर्कों तक पहुंच प्राप्त कर ली है, उन्हें विभिन्न बहानों से ब्लैकमेल करना शुरू कर देते हैं।

भोपाल साइबर विंग द्वारा हाल ही में किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार, ऐशबाग, जिंसी चौराहा, अशोका गार्डन, बजरिया और एमपी नगर में रहने वाले बच्चे बदमाशों द्वारा की जाने वाली ऐसी धोखाधड़ी के प्रति अधिक संवेदनशील हैं।

ऑनलाइन गेमिंग के लिए सलाह जल्द जारी की जाएगी: डीसीपी (अपराध)

पुलिस उपायुक्त (अपराध) श्रुतकीर्ति सोमवंशी ने कहा कि प्रचलित 'टास्क गेमिंग' के मद्देनजर जल्द ही साइबर सेल द्वारा सलाह जारी की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस बीच, माता-पिता को सेल फोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर अपने बच्चों की गतिविधियों पर भी नजर रखनी चाहिए।



Madhya Pradesh, प्रतिवाद समाचार, प्रतिवाद, MP News, Madhya Pradesh News, MP Breaking, Hindi Samachar, prativad.com


Related News

Latest News

Global News