×

अमेरिकी अदालत ने पुष्टि की कि एआई-जनित कला कॉपीराइट योग्य नहीं

Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 1391

भोपाल: 21 अगस्त 2023। एक संघीय न्यायाधीश ने एक फैसले की पुष्टि की है कि कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) द्वारा बनाई गई कला कॉपीराइट संरक्षण के लिए पात्र नहीं है। यह निर्णय, जिसे अमेरिकी जिला न्यायाधीश बेरिल होवेल द्वारा जारी किया गया था, एआई उद्यमी स्टीफन थैलर द्वारा दायर एक मुकदमे के जवाब में आया था।

थैलर ने तर्क दिया था कि उनकी एआई प्रणाली, क्रिएटिविटी मशीन, मूल कलाकृतियों को बनाने में सक्षम थी। हालांकि, न्यायाधीश होवेल ने असहमत होकर पाया कि कॉपीराइट अधिनियम में आवश्यक है कि कार्य "मानव द्वारा" बनाया गया हो।

यह फैसला थैलर के लिए एक झटका है, लेकिन यह कॉपीराइट कानून के लिए भी एक जीत है। कानून ने लंबे समय से माना है कि कॉपीराइट सुरक्षा का उद्देश्य मानव रचनात्मकता को बढ़ावा देना है। यह लोगों को उनके काम के लिए उचित पुरस्कार देने और नवाचार को दबाने के लिए उनका उपयोग नहीं करने के लिए सुनिश्चित करके काम करता है।

यह फैसला एआई-जनित कला के भविष्य पर भी महत्वपूर्ण प्रभाव डालने की संभावना है। हालांकि एआई का अभी भी कला बनाने के लिए उपयोग किया जा सकता है, लेकिन इस तथ्य के कारण कि कला को कॉपीराइट नहीं किया जा सकता है, यह कलाकारों के लिए अपने काम से लाभ कमाना अधिक कठिन बना देगा। यह कुछ कलाकारों को एआई का उपयोग करने से हतोत्साहित कर सकता है, और यह एआई-जनित कला के स्वामित्व पर अधिक विवादों को भी जन्म दे सकता है।

यह फैसला ऐसे समय में आता है जब कलाओं में एआई की भूमिका के बारे में बढ़ती बहस है। हाल के वर्षों में, एआई-संचालित कला जेनरेटर के विकास में उछाल आया है, जो यथार्थवादी और रचनात्मक छवियों, चित्रों और संगीत को बना सकते हैं। हालांकि, कलाओं में एआई के उपयोग ने कॉपीराइट, स्वामित्व और एआई द्वारा मानव कलाकारों को बदलने की संभावना के बारे में भी चिंताओं को जन्म दिया है।

थैलर के मामले में निर्णय एक अनुस्मारक है कि कॉपीराइट कानून नई तकनीकों के साथ तालमेल बिठाने के लिए अभी भी विकसित हो रहा है। यह अभी भी देखना बाकी है कि कानून अंततः एआई-जनित कला पर कैसे लागू होगा। हालांकि, फैसला एआई और कलाओं के लिए कानूनी परिदृश्य को स्पष्ट करने में एक महत्वपूर्ण कदम है।

थैलर के मामले के अलावा, यह फैसला एआई और कॉपीराइट से संबंधित कई अन्य घटनाओं के बीच भी आता है। जनवरी में, एक समूह के कलाकारों ने एआई कला जनरators मिडजर्नी, स्थिर विसरण और ड्रीमअप के निर्माताओं पर मुकदमा दायर किया, जिसमें आरोप लगाया गया था कि उपकरणों ने बिना अनुमति के उनकी सामग्री का उपयोग करके उनके कॉपीराइट का उल्लंघन किया। यह मुकदमा अभी भी लंबित है, लेकिन यह कलाकारों और एआई कला जनरators विकसित करने वाली कंपनियों के बीच बढ़ते तनाव का संकेत है।

कलाओं में एआई का उपयोग एक जटिल मुद्दा है जिसमें आसान उत्तर नहीं हैं। हालांकि, थैलर के मामले में फैसला कानूनी परिदृश्य को स्पष्ट करने में एक मददगार कदम है। यह अभी भी देखना बाकी है कि कानून अंततः एआई-जनित कला पर कैसे लागू होगा, लेकिन यह फैसला एक महत्वपूर्ण विकास है जो कलाओं के भविष्य पर एक बड़ा प्रभाव डालने की संभावना है।

Related News

Latest News

Global News