×

कृत्रिम बुद्धिमत्ता के जनक ने चेताया: "युद्ध रोबोट" और अस्तित्व का संकट

prativad news photo, top news photo, प्रतिवाद
Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 1655

भोपाल: 11 अप्रैल 2024। कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) अनुसंधान में अग्रणी व्यक्ति और जिन्हें प्यार से "एआई के जनक" के नाम से जाना जाता है, ज Geoffrey Hinton ने उसी तकनीक के संभावित खतरों के बारे में कड़ी चेतावनी दी है जिसे उन्होंने विकसित करने में मदद की थी। हाल ही के एक साक्षात्कार में, Hinton ने एआई के मानवीय बुद्धि से आगे निकलने और स्वायत्त "युद्ध रोबोट" के विकास पर चिंता व्यक्त की, जो युद्ध को और भयावह बना सकते हैं।

ट्यूरिंग पुरस्कार विजेता और पूर्व Google इंजीनियर Hinton ने एआई द्वारा उत्पन्न "अस्तित्व के खतरे" पर बल दिया। उन्हें चिंता है कि एआई प्रणालियाँ एक दिन इतनी बुद्धिमान हो सकती हैं कि वे मानव नियंत्रण से बाहर हो जाएं और संभावित रूप से सत्ता हथिया लें। Hinton के अनुसार, यह चिंता विज्ञान कथा से परे है।

Hinton का तर्क है कि "बहुत ही बुरी चीजें" होने की संभावना अधिक है, खासकर जब हथियारों में एआई के उपयोग की बात आती है। उन्होंने विशेष रूप से "युद्ध रोबोट" का उल्लेख किया, जिनके बारे में उनका मानना है कि वे अपरिहार्य हैं और युद्ध की क्षमता का रुझान धनी राष्ट्रों के पक्ष में काफी हद तक बदल देंगे। उनके विचार में, ये स्वायत्त हथियार शक्तिशाली देशों के लिए कमजोर देशों पर युद्ध छेड़ना आसान बना देंगे, जिसके विनाशकारी परिणाम होंगे।

H तेजी से विकसित हो रहे इस क्षेत्र से जुड़े कुछ एआई विशेषज्ञों के बीच नैतिक विचारों और संभावित जोखिमों को लेकर Hinton की चेतावनी एक बढ़ती हुई भावना को दर्शाती है। वे इन संभावित खतरों को नियंत्रण से बाहर होने से पहले कम करने के लिए, विशेष रूप से स्वायत्त हथियारों से संबंधित एआई विकास पर अंतर्राष्ट्रीय नियमों सहित सक्रिय उपायों का आग्रह करते हैं।

Related News

Latest News

Global News