×

लू: बढ़ती उम्र के लोगों के लिए एक गंभीर खतरा

prativad news photo, top news photo, प्रतिवाद
Location: भोपाल                                                 👤Posted By: prativad                                                                         Views: 497

भोपाल: 29 मई 2024। बढ़ती वैश्विक जनसंख्या और उम्रदराज के साथ, लू का प्रकोप बुजुर्गों के स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा खतरा बनकर उभर रहा है। तापमान बढ़ने और रात में ठंडक कम होने के कारण लाखों बुजुर्ग हीट-संबंधित बीमारियों और यहां तक कि मौत के भी अधिक जोखिम में हैं।

आपदा का मेल: बुढ़ापा और गर्मी
लू के दौरान बुजुर्गों की संवेदनशीलता के कई कारण हैं। उनका शरीर तापमान को नियंत्रित करने में कम कुशल होता है, जिससे शरीर को ठंडा रखना मुश्किल हो जाता है। बुजुर्गों में आम होने वाली पुरानी स्वास्थ्य स्थितियां अक्सर हीट स्ट्रेस से और खराब हो जाती हैं। इसके अलावा, मूत्रवर्धक और बीटा-ब्लॉकर्स जैसी दवाएं शरीर की गर्मी को संभालने की क्षमता को और कमजोर कर सकती हैं।

रात में कम ठंडक का दोहरा झटका
हाल के वर्षों में एक चिंताजनक रुझान देखा गया है: गर्म दिनों के साथ रात में भी कम ठंडक पड़ती है। रात में गर्मी से राहत न मिलना बुजुर्गों के लिए खासकर नुकसानदेह हो सकता है। उनका शरीर दिन की गर्मी से उबरने के लिए रात के ठंडे तापमान पर निर्भर करता है, और इसके बिना, उनके शरीर का तापमान अधिक बढ़ने का खतरा होता है।

लाखों लोग जोखिम में
बढ़ती उम्र की आबादी और लू के प्रकोप के संयुक्त प्रभाव से एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य चिंता पैदा होती है। अध्ययनों से लू और बुजुर्ग व्यक्तियों के बीच मृत्यु दर बढ़ने के बीच एक मजबूत संबंध पाया गया है। यह जोखिम उन लोगों के लिए विशेष रूप से अधिक है जो अकेले रहते हैं, जिनके पास वातानुकूलन की सुविधा नहीं है, या जिनके पास सामाजिक समर्थन नेटवर्क का अभाव है।

कार्रवाई का आह्वान
विशेषज्ञ लू के दौरान संवेदनशील आबादी की रक्षा के लिए सक्रिय उपाय करने का आग्रह करते हैं। इनमें निम्न शामिल हैं:
सार्वजनिक जागरूकता अभियान: बुजुर्गों को गर्मी के खतरों और ठंडे रहने के तरीकों के बारे में शिक्षित करना।
लक्षित कार्यक्रम: यह सुनिश्चित करना कि लू के दौरान भी होमबाउंड बुजुर्गों तक मील ऑन व्हील्स जैसी आवश्यक सेवाएं पहुंचती रहें।
सामुदायिक शीतलन केंद्र: बुजुर्गों को गर्मी से बचने के लिए वातानुकूलन वाली सुलभ जगहें प्रदान करना।
बुजुर्ग पड़ोसियों की जांच करना: दयालुता के साधारण कार्य, जैसे बुजुर्ग पड़ोसियों या रिश्तेदारों की जांच करना, बहुत बड़ा अंतर ला सकते हैं।

आगे देखना: लचीलापन बनाना
लू के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए बहुआयामी रणनीति की आवश्यकता है। शहरी नियोजन को लू को ध्यान में रखना होगा, जिसमें अधिक हरित क्षेत्र और गर्मी को परावर्तित करने वाली सतह शामिल हों। इसके अतिरिक्त, बुजुर्ग आवास के लिए उचित इन्सुलेशन और वातानुकूलन पहुंच सुनिश्चित करने से अत्यधिक गर्मी की घटनाओं के दौरान उनकी सुरक्षा में काफी सुधार हो सकता है।

भविष्य में दुनिया में बुजुर्ग आबादी अधिक होगी और संभावित रूप से लू का प्रकोप भी अधिक होगा। आज सक्रिय कदम उठाकर, हम जोखिमों को कम कर सकते हैं और अपने सबसे कमजोर नागरिकों के लिए एक सुरक्षित भविष्य सुनिश्चित कर सकते हैं।

Related News

Latest News

Global News